Friday , 7 August 2020
Home - सनातनी पोस्ट - किस देश में किस रूप में पूजे जाते थे कृष्ण-Hercules था कृष्ण के कुल का
worship-of-bhagwan-krishna-in-ancient-world
worship-of-bhagwan-krishna-in-ancient-world

किस देश में किस रूप में पूजे जाते थे कृष्ण-Hercules था कृष्ण के कुल का

worship of bhagwan Krishna in Ancient world:  वैसे तो हम सभी को यह पता ही है

कि एक समय ऐसा था जब पुरे विश्व में सनातन धर्म ही था और बाद में अन्य पन्थो का

जन्म हुआ | लेकिन विश्व में कई देश ऐसे है जहाँ के लोग भगवान कृष्ण को पूजते थे और

इसके प्रमाण अभी भी मौजूद हैं |

श्री कृष्ण थे विश्व देव bhagwan Krishna in Ancient world

  • हिरोडोटस नामक एक ग्रन्थ में उल्लेख है कि फ्निशिया देश के टीरा नगर में हरक्युलिस का

एक प्रसिद्ध मन्दिर हुआ करता था | ग्रीक साहित्य में हमें हेराक्लिज़ और हरक्युलिस

नाम के दो शब्द सुनने को मिलतें है | bhagwan Krishna in Ancient world

  • ये दोनों ही शब्द हरिकुल ईश , संस्कृत शब्द से लिए गयें है | इसका अर्थ यह हुआ कि हरि के कुल में अवतरित , जैसे श्री राम और कृष्ण हरि के अवतार ही है |
  • यूरोप के होलैंड नाम के देश की राजधानी में सबसे बड़े होटल का नाम है कृष्णपोलसकी| कृष्णपोलसकी  अर्थ है पोलैंड देश का कृष्ण | bhagwan Krishna in Ancient world
इसके अलावा अमेर्स्दम शब्द भी संस्कृत से ही लिया गया है जिसका वास्तविक नाम है अंतधार्म |
  • होलैंड को निधरलैंड भी कहा जाता है | यदि इसके पहले से A शब्द को हटा दिया जाये तो यह बनेगा अंदरलैंड यानि सागर स्तर से निम्न भूमि | bhagwan Krishna in Ancient world
  • स्पेन देश के दक्षिणी तट पर कंदिज़ नाम का एक नगर है |
  • इस भूमि को बहुत ही पवित्र माना जाता है क्योंकि वहाँ पर कृष्ण के मन्दिर हुआ करते थे |
  • स्ट्राबो नाम के एक ग्रीक ग्रन्थकार ने लिखा है कि उस भूमि पर rhadamanthus के बहुत मन्दिर थे |
  • यह शब्द राधा-मनस्थ-ईश के संस्कृत शब्द से लिया गया है | इसका अर्थ है कि राधा के मन में निवास करने वाले भगवान कृष्ण | bhagwan Krishna in Ancient world
  • H.spencer Lewis के ग्रन्थ में मुकुटधारी शिशु का एक चित्र मुद्रित है उसके निचे लिखा है कि ,

एक दैवी बालक की प्रतिमाएं क्रिस्तपन्थ प्रस्थापित होने के पूर्व क्रिस्तमास दिन को कई प्रदेशों में

प्रतिस्थापित की जाती थी |

यह त्यौहार वास्तव में कृष्ण मास का त्यौहार था जो एक समय पुरे विश्व में मनाया जाता था |

Read this also : पाकिस्तान से आये हिन्दू शरणार्थीयों से मिलने पहुंचे शिखर धवन 

Source : वैदिक विश्व राष्ट्र का इतिहास , पुरुषोतम नागेश 

 

आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

 

यह भी पढ़ें

Shivling found in aurangabad

कब्रिस्थान कि जमीन में मिला शिवलिंग  Shivling found in aurangabad

औरंगाबाद(संभाजीनगर) जिले के हर्सूल सावंगी गाव में एक गाय बकरी चराणेवाले व्यक्ती को खाम नदी …

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved