Sunday , 25 October 2020
Home - क्यूँ - क्यों महाभारत युद्ध के लिए कुरुक्षेत्र को ही चुना गया था
why-kurukshetra-was-chosen-for-mahabharat
why-kurukshetra-was-chosen-for-mahabharatwhy-kurukshetra-was-chosen-for-mahabharat

क्यों महाभारत युद्ध के लिए कुरुक्षेत्र को ही चुना गया था

why krishna selected  Kurukshetra  for Mahabharat  : हमने महाभारत के बारे में तो सुना है

लेकिन क्या आपके मन में कभी यह प्रश्न नहीं आया कि महाभारत युद्ध के लिए कुरुक्षेत्र भूमि

को ही क्यों चुना गया था | श्री कृष्ण महाभारत के युद्ध के लिए ऐसी भूमि का चुनाव करना

चाहते थे जहाँ पर दया करुणा की कोई भावना न हो |

क्योंकि युद्ध में भाई ही भाई के समाने खड़ा होने वाला था | इसलिए ऐसी भूमि अनिवार्य थी जहाँ

भाई भाई से युद्ध  के समय एक दुसरे पर प्रहार करने में दया  और करुणा न दिखाएँ  |

दो भाईयों के बीच लड़ाई why krishna selected  Kurukshetra  for Mahabharat

जब उनके दूत ने  बताया कि कुरुक्षेत्र में , बड़े भाई ने अपने छोटे भाई

को खेतों में बहते हुए वर्षा के जल को रोकने के लिए कहा तो उसने मना कर दिया |

इस पर बड़े भाई को गुस्सा आ गया और उसने अपने छोटे भाई को मार कर

उसकी  लाश को उस स्थान पर अपने पैरों से दबा दिया जहाँ से वर्षा का जल खेतों में आ रहा था |

इस तरह श्री कृष्ण ने कुरुक्षेत्र भूमि का चुनाव किया था | why krishna selected  Kurukshetra  for Mahabharat

यही नहीं इसी स्थान पर ही श्रवण कुमार ने अपने माता पिता को भी नीचे उतार दिया था |

लेकिन उसने सोचा कि ऐसी बात उसके दिमाग में आई कैसे | तब उसके माता पिता ने कहा

की यह भूमि का ही प्रभाव जिसके कारण तुम्हारे मन में इस प्रकार का विचार उत्पन्न हुआ था |

इस कहानी से साफ़ होता है की मनुष्य के मन और बुद्धि पर स्थान का बहुत अधिक प्रभाव होता है |

इसलिए हमें अपना निवास स्थान भी वहाँ ही बनाना चाहिए जहाँ पर अच्छे कर्मों का इतिहास रहा हो | why 

Read This : क्यों मृत्यु के बाद ही जीवित रहता है मनुष्य 

 


आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

यह भी पढ़ें

six-things-reduces-age

यह 6 काम जो घटाते हैं मनुष्य की उम्र-आप तो नहीं करते ये काम

six things reduces age : महाभारत में एक प्रसंग आता है जब राजा धृतराष्ट्र महात्मा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved