vishnu-idol-below-qutb-minar

क्यों कुतुबमीनार के निचे दबी है भगवान विष्णु की मूर्ति, इसमें है सृष्टि का रहस्य

Vishnu idol below Qutb Minar : वैदिक विचारधारा के अनुसार शेषषायी भगवान विष्णु ने अपनी लीला द्वारा इस विशाल सृष्टि का निर्माण किया था। उस निर्माण की स्मृति में सृष्टि के निर्माता के प्रति  श्रद्धाभाव से देश परदेश में मुर्तिया बनाना स्वभाविक था| Vishnu idol below Qutb Minar

शेषषायी विष्णु भगवानVishnu idol below Qutb Minar

शेषषायी विष्णु भगवान की प्रतिमा विश्व में स्थान स्थान पर बनी थी। यह ठोस प्रमाण है।

दिल्ली की शेषषायी विष्णु मूर्ति भारत के दिल्ली नगर में कुतुब मीनार के तले एक सरोवर

के मध्य में बनी हुई थी । उस मूर्ति की विशालता का अनुमान वर्तमान मीनार की ऊंचाई

और मोटाई से लगाया जा सकता है। मीनार विष्णु के नाभि से निकली कमल की नाल स्वरूप है |

इस नाल के सात मंजिल बने हुए थे जो सात स्वर्ग के प्रतीक थे । Vishnu idol below Qutb Minar

इस छत्र के नीचे सातवी श्रेणी पर कमल आसन पर बैठी ब्रह्मा की मूर्ति थी।

उस ऊंचे  सप्त स्वर्ग के नामस्तम्भ पर बैठे ब्रह्मा जी सृष्टि निर्माण कार्य का निरीक्षण करते दिखलाई गए थे।लेकिन इस्लामी आक्रमणकारियों ने नीचे तले का विष्णु और शिखर का ब्रह्मा नष्ट कर दिया।

Why is Lord Vishnu there in ocean of milk and why is he sleeping ...

वैदिक प्रणाली के अनुसार सृष्टि उत्पत्ति का चित्र देख सकते हैं। बारीकी से चित्र पर सोचने

से यह बात ध्यान में आएगी कि शेषनाग की शैया या खटोला बना हुआ है और भगवान

विष्णु उसके उपर लेटे हुयें है|  उनके गर्भ से ब्रह्मा निकले हैं। ब्रह्मा जी के पीछे पीछे नाल है।

Vishnu idol below Qutb Minar

यह नाल प्रसूति के पश्चात भी कटी नहीं है क्योंकि सारी सृष्टि में भगवान विष्णु की उर्जा विद्यमान हो रही है।

ब्रिटेन के वेल्स  विभाग में अंग्लसी द्वीप  है | उसी द्वीप पर इस प्राचीन महान विष्णु शिल्प  के अवशेष  अभी भी उपलब्ध है| Vishnu idol below Qutb Minar

Read This also : कब्रिस्तान की जमीन में मिला शिवलिंग 

Source : वैदिक विश्व राष्ट्र का इतिहास , पुरुषोतम नागेश 

आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

Quick Payment Link

यह भी पड़िए

nathuram godse urn ashes

नाथूराम गोडसे की अस्थियां आज तक सुरक्षित क्यों रखी गई है?

nathuram godse urn ashes : 30 जनवरी 1948 देश के राष्ट्र पिता कहे जाने वाले …

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved