Tuesday , 11 August 2020
Home - षड्यंत्र - क्या है सावरकर की अंग्रेजों से माफ़ी का सच
the-truth-of-savarkars-apology-to-the-british
the-truth-of-savarkars-apology-to-the-british

क्या है सावरकर की अंग्रेजों से माफ़ी का सच

The truth of Savarkar’s apology to the British : अपने 37 वर्ष के लंबे कार्यकाल में, जिस दौरान उन्होंने भारत की नियति को बदला और हिंदवी स्वराज की नींव रखी, छत्रपति शिवाजी ने औरंगजेब को चार माफीनामे भेजे थे। इनमें से तीन माफीनामे उनके और मुगलों के बीच लिखित संधियों के बाद के थे। लेकिन इन सभी संधियों को स्वयं शिवाजी ने तोड़ा था, क्योंकि यह उनकी स्वतंत्र हिंदू राज्य स्थापित करने और सबको समान अधिकार देने की दीर्घकालिक नीति का हिस्सा था। savarkars apology to the british

विनायक दामोदर सावरकर छत्रपतिशिवाजी के अनुयायी थे। जैसे शिवाजी 1666 में आगरा से मिठाइयों के टोकरे में छुपकर मुगल कैद से फरार हुए थे, उसी से प्रेरणा लेकर सावरकर ने भी 1910 में मोरिया जहाज से पलायन किया था। इसलिए जब हम सावरकर की माफी का आकलन करते हैं, तब हमें सही नतीजे पर पहुंचने के लिए शिवाजी की युक्तियों के बारे में सोचना पड़ता है। ऐसा करने पर हमें पता चलता है कि उनका माफीनामा खुद को जेल से बाहर रखने की नीति से जुड़ा था, ताकि वे अपनी राष्ट्रीय-दृष्टि को आगे ले जा सकें। the truth of savarkars apology to the british

Read This : भारत के एक महान योगी जी 900 वर्ष तक जीवित रहे 

इन सभी बातों से पता चल जाता है कि वीर सावरकर ने अंग्रेजों से माफ़ी अपना कार्य आगे बड़ाने के लिए मांगी थी और उन्होंने कभी भी अंग्रेजो के पक्ष में काम नहीं किया | वीर सावरकर को आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई गई थी , अगर वे आजीवन कारावास में ही रहते तो क्या वे भारत के लिए कार्य कर पाते | the truth of savarkars apology to the british

कोमुनिस्ट नेताओं के अंग्रेजो से माफ़ी के सबूत 

वास्तव में यह भ्रम भारत के समाजवादी लोगों द्वारा फैलाया गया है जबकि उनके खुद के नेताओं ने लिखित रूप में अंग्रेजो से माफ़ी मांगी है लेकिन वे इस बात का ज़िक्र कभी भी नहीं करेंगे | 

SA Dange DM Letter_1 

कम्युनिस्ट नेताओं की माफ़ी का पत्र 

अब जवाब इन कोमुनिस्टो को देना चाहिए कि आप लोग तो एक भी ऐसा दस्तावेज़ नहीं दिखा पाए जिसमें वीर सावरकर ने माफ़ी मांगी हो लेकिन ये एक दस्तावेज़ है जिसमें आपके नेता अंग्रेजो से माफ़ी मांग रहें है | अभी पहले उसका जवाब देना चाहिए भारत के कोमुनिस्टो को | 

Source : Organiser 

 

आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

 

यह भी पढ़ें

Hou Yanqi

चीन की विषकन्या , जिस के हाथों में है नेपाल की सत्ता : Hou Yanqi

Hou Yanqi ( होऊ यांकी ), ये चाइनीज़ उपनिवेश नेपाल की वर्तमान एम्बेसेडर ।आप इन्हें …

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved