Tuesday , 24 November 2020
Home - षड्यंत्र - कहानी गोधरा की
कहानी गोधरा की
कहानी गोधरा की

कहानी गोधरा की

श्री राम महायज्ञ से लोगों को लेकर कर्णावती से वापिस आ रही साबरमती एक्सप्रेस सुबह 7:43 बजे गोधरा पहुंची | 7:48 बड़े गाड़ी गोधरा से रवाना हुई , 5 मिनट बाद ही चेन खींच कर गाड़ी को रोक दिया गया और उसके बाद सारी घटना को अंजाम दिया गया |

What is Godhra train burning case and what really happened in S6 ...

अनुमान है कि 2000 से 2500 की भीड़ ने पथराव शुरू कर दिया था | उस उन्मादी भीड़ ने बोगी नंबर 4,5,6 पर पेट्रोल बम्ब , तेजाब आदि छिड़क कर उसे जला दिया और लोगों को  मार दिया गया था | हमला इतना बर्बर था कि लोगों के शव नहीं मिल सके सिर्फ कपड़ों के चिथड़ों द्वारा लोगों को पहचाना गया था | इसके कुछ अन्य तथ्य है :

  • 45 मिनट तक आग भुजाने के लिए कोई नहीं पहुंचा और डिब्बों को बाहर से तारों से बंद कर दिया गया था |
  • सरकारी आंकड़ों के अनुसार इस घटना में 16 पुरुष , 25 महिला और 15 बालक और 60 के करीब लोगों घायल हुए थे |
  • आग को भुजाने के लिए आने वालों को गोधरा के एक कांग्रसी मुस्लिम पार्षद ने तलवार की नौक पर रोक रखा था |
  • इस सारी घटना में यह मुख्य लोग शामिल थे महमूद हुसैन कलोटा , गोधरा नगरपालिका प्रमुख ,सलीम अब्दुल गफार शेख , नगरपालिका पार्षद पंचमहल जिला , उपप्रमुख | अब्दुल रहमान घतिया पार्षद और कांग्रेस कार्यकर्ता फारुख माला जिला कांग्रेस समिति का अध्यक्ष हाजी बिलाल
  • वहन चालक प्रदीप ठाकुर ने पुलिस के समक्ष बयाँ दिया कि बिलाल हाजी ही वह आदमी था जो अग्निशमन वाहन के आगे लेट गया था
  • सूत्रों के अनुसार पुलिसकर्मी को रेलवे लाइन के किनारे से गैलनों में भरा हुआ पेट्रोल व् डीजल उपलब्द कराया गया |
  • गोधरा रेलवे स्टेशन के अधीक्षक श्री जे के खतीजा भी घटना के समय वहीं थे लेकिन उस समय स्टेशन प्रभारी थे श्री सयैद , पर कोई भी यह बताने को तैयार नहीं कि स्टेशन पर झगडा होने के बावजूद रेलगाड़ी क्यों चलाई गई थी और पुलिस को वहां क्यों नही बुलाया गया था |
  • जी.आर.पी और रेलवे सुरक्षा बल के जवान सभी कुछ देखते रहें उन्होंने कोई गोली नहीं चलाई | स्थानीय पुलिस के आने के बाद भी हवा में गोली चलाई गई |

Narendra Modi-led Gujarat Govt Gets Nanavati Commission's Clean ...

ISI से जुड़े गोदरा के तार 

गोधरा नरसंहार के तार ISI से भी जुड़े थे डी आई जी विपुल विजय ने कहा था की गिरफ्तार लोगों में से 28 लोगों ने नकली दस्तावेजों पर हाल ही में विदेश यात्रा भी की थी और कुछ के सम्बन्ध अहमदाबाद के सरगना लतीफ़ से भी थे | यु ऍन आई के अनुसार राज्य सरकार गोधरा के पीछे हरकत उल जिहाद ऐ इस्लामी की भूमिका की भी जाँच कर रही थी और जिसका स्वघोषित कमांडर कलकत्ता पुलस द्वारा मार्च 2002 को गिरफ्तार किया गया | यह भी जाँच चल रही थी की कहीं इस कमांडर के सम्बन्ध हाजी बिलाल से थे या नहीं , जो एक एक जेब कतरे से गोधरा का नगर पार्षद बन गया था और घटना के दिन से गायब था |

गोधरा कांड फैसले का गुजरात इलेक्शन ...

आप बीती कहानी

  • इस काण्ड में एक मात्र गायत्री ही बची थी और उन्होंने बताया कि गोधरा स्टेशन से 27 फरवरी बुधवार को गाड़ी 8 बजे रवाना हुई थी , सिर्फ आधा किलोमीटर की दुरी पर गाड़ी को चैन खिंच कर रोक दिया गया था | उसके बाद बहुत बड़ी संख्या में भीड़ तलवारों आदि के साथ हमला कर दिया | लोग बहुत डर गये थे और उन्होंने अपने खिड़की दरवाजे सब बंद कर दिए थे | भीड़ चिल्ला रही थी और गलियां दे रही थी और हमने लादेन के दुश्मनों को मार डालो जवान लडकियों को उठा लो जैसे शब्द सुने थे | उन्होंने खिड़किया तोड़ डाली और पेट्रोल डालकर डिब्बों में आग लगा डाली, कुछ लोग अंदर आ गये और लोगों को मारने लगे | हमें बचाने के लिए पुलिस के कुछ जवान आये लेकिन भीड़ ने उन्हें पत्थरबाजी करके भगा दिया |

डिब्बा पूरी तरह से धुएं से भर गया था और देखना भी असम्भव था | मेरे पास कोई विकल्प नही था और मैं साहस करके खिड़की से कूद पड़ी | पूजा और मैं खिड़की से बाहर आये , पूजा चोट के कारण खड़े होने में असमर्थ थी , मुझे भीड़ ने वापिस खिंचा | किसी तरह हम डिब्बे के निचे जाने में सफल रहे और मैं अपने माता पिता को और दोनों बहनों को जलकर खाक होतें हुए देखा था |  

  • झेवर भाई के पुत्र ने कहा की एक भी व्यक्ति वहां पहचान में नहीं आ रहा था , हम अपने पिता का शव उनकी जेब में रखे ड्राइविंग लाइसेंस से पहचान पाए |

dionnebunsha.com: Poking through the embers of Godhra

गोधरा का दंगाई इतिहास

  • 1927-28 में हिन्दू समाज के श्री पी.एम शाह , श्री वामनराव मुकादम तथा डा माणिकलाला शाह में से श्री पी.एम का मुस्लिमों द्वारा कत्ल |
  • 1948 में विधायक सदवा हाजी द्वारा जिलाधीश श्री पिम्पुटकर पर गोलीबारी
  • 24 मार्च 1948 में दूध लेकर आ रहे हिन्दू युवक की हत्या तथा हिन्दू बस्ती में आगजनी
  • 15 अगस्त को इकबाल यूनियन हाईस्कूल के शिक्षक , डायमंड होटल के मालिक हुसैनभाई सैय्यद के बेटे ने भारतीय राष्ट्रध्वज जलाया |
  • श्री निरंजनबाई नटवरशाह को वन्देमातरम गाने के अपराध में नौकरी से निकल दिया गया था |
  • 1980 में सिग्नल फलिया क्षेत्र में मुस्लिम असमाजिक महिला अमीनाबीबी द्वारा गोधरा में 27 फरवरी 2002 जैसे हमले किये गये जिसमें 5 और 7 साल के दो बच्चों सहित 5 हिन्दुओं को जिन्दा जला दिया गया था | गुरुद्वारा भी जला दिया गया और इसमें कांग्रसी मुस्लिम विधायक अब्दुल रहीम खलपा का हाथ था |

Reference: गोधरा  (कृपाशंकर मनोज )

 


आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

यह भी पढ़ें

Reality of Javed akhtar

जिहादी जावेद अख्तर का काला सच शायद बहुत कम लोगो को पता है : Reality of Javed Akhtar

Reality of Javed Akhtar :  क्या बॉलीवुड मे सच मे फिल्म-जिहाद अथवा बॉलीवुड-जिहाद जैसा कुछ …

2 विचार

  1. कृपा करके paytm और अन्य विकल्पों को भी लागू करे ताकि हम सहयोग कर सके

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved