SFJ plans door to door vote
SFJ plans door to door vote

Sfj plans to register door to door voters – भारत को तोड़ने की साजिश ‘सिख फॉर जस्टिस’ ने शुरू किया नियुक्ति अभियान

Sfj plans to register door to door voters – खालिस्तान समर्थक प्रतिबंधित सिख्स फॉर जस्टिस (एसएफजे) समूह ने 5 अगस्त को अपने
अलगाववादी एजेंडेरेफरेंडम2020 (जनमत संग्रह 2020) के लिए अमेरिका और ब्रिटेन सहित सात देशों
में भारतीय दूतावासों के सामने मतदाता पंजीकरण शिविर लगाने की योजना बनाई है।

पिछले साल जुलाई में रेफरेंडम 2020 का समर्थन करने के कारण गृह मंत्रालय द्वारा प्रतिबंधित किए गए
राष्ट्र-विरोधी समूह के बारे में पता चला है कि इसने इसी तरह का कैम्प 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के
मौके पर कनाडा, इटली, जर्मनी, फ्रांस, आस्ट्रेलिया और जर्मनी में भी लगाने की योजना बनाई है।

Sfj plans to register door to door voters

Sfj plans to register door to door voters
Sfj plans to register door to door voters

भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने इन देशों में दूतावासों को अलर्ट पर रहने की चेतावनी दी है।

जानकारी के अनुसार, एसएफजे के अटॉर्नी और जनरल काउंसल गुरपतवंत सिंह पन्नून कनाडा और
अन्य पश्चिमी देशों में भारतीय वाणिज्य दूतावासों के सामने 15 अगस्त के मतदाता पंजीकरण कैम्प
के संबंध में समन्वय के लिए कनाडा की राजधानी ओटावा में डेरा डाले हुए है।

हाल ही में, कनाडा में पन्नून की अगुवाई वाले एसएफजे ने कनाडा में भारतीय तिरंगा जलाया और
अवशेषों को ओटावा में भारतीय उच्चायुक्त को मेल किया।Sfj plans to register door to door voters

समूह ने दावा किया है कि भारतीय तिरंगे के अवशेषों को भारत को यह याद दिलाने के लिए एक
प्रतीकात्मक संकेत के रूप में ओटावा में भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया को मेल किया कि
कनाडा खालिस्तान को भारत के विपरीत एक राजनीतिक अभिमत मानता है।

पिछले हफ्ते कनाडा के विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने एसएफजे के रेफरेंडम 2020 अभियान को
अस्वीकार कर दिया और कहा, कनाडा भारत की संप्रभुता, एकता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान
करता है, और कनाडा की सरकार जनमत संग्रह को मान्यता नहीं देगी।

4 जुलाई से समूह ने पंजाब, दिल्ली और जम्मू-कश्मीर को अलग-अलग पोर्टलों के माध्यम से रेफरेंडम
2020 के लिए अपना ऑनलाइन मतदाता पंजीकरण शुरू करने के लिए चुना, लेकिन कथित तौर पर
समर्थन नहीं जुटा सका।Sfj plans to register door to door voters

दिल्ली और जम्मू-कश्मीर में रेफरेंडम के लिए मतदाता पंजीकरण शुरू करने के लिए समूह ने दो बार
कनाडाई साइबर स्पेस का इस्तेमाल किया है।Sfj plans to register door to door voters

खालिस्तानी समर्थक कनाडा MP को पार्लिमेंट से बेइज्जत करके निकाला

एसएफजे गतिविधियों को संवैधानिक रूप से संरक्षित बताते हुए, पन्नून ने कहा कि कनाडा की सरकार
ने कनाडा की धरती पर रेफरेंडम 2020 की गतिविधियों को प्रतिबंधित नहीं किया है और न ही कर सकती है।
एसएफजे नेता ने यह भी धमकी दी कि खालिस्तान रेफरेंडम का कनाडा से प्रचार जारी रहेगा और
रेफरेंडम 2020 के लिए कनाडा भर में पोलिंग नवंबर में तय कार्यक्रम के अनुसार होगा।
पन्नून उन नौ खालिस्तान समर्थकों में से है जिन्हें इस महीने की शुरुआत में भारत सरकार ने
आतंकवादी के रूप में घोषित किया था।Sfj plans to register door to door voters

आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

Quick Payment Link

यह भी पड़िए

जीत गई काशी: काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर के लिए ज्ञानव्यापी मस्जिद ने दी जमीन…

काशी विश्वनाथ मंदिर (Kashi Vishwanath Temple) और ज्ञानवापी मस्जिद (Gyanvapi Masjid) विवाद में एक बड़ी …

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved