reality-of-tipu-sultan
reality-of-tipu-sultan

टीपू सुल्तान देश रक्षक या हिन्दू भक्षक ? Reality Of Tipu Sultan

Reality Of Tipu Sultan : इतिहास का भविष्य पर गहरा असर पड़ता है, इसलिए यह भावी पीढ़ी के लिए दोषपूर्ण इतिहास पढ़ना आवश्यक हो जाता है। पहले अंग्रेजों और फिर अंग्रेजों के चाटुकार इतिहासकारों की वजह से आज भी देश का वास्तविक इतिहास भावी पीढ़ी को तोड़-मरोड़ कर पढ़ाया जाता या फिर पढ़ाया ही नहीं जाता। अक्सर यही देखा गया है कि भारत के पाठ्यक्रमों में हमले करने वालों का अधिक ही गुणगान किया जाता है, देश की मिट्टी से जुड़े योद्धाओं को नकार दिया गया और उन्हें किताबों में भी कोई स्थान नहीं दिया गया। ऐसे ही एक पात्र है टीपू सुल्तान

टीपू सुल्तान और स्यासत

टीपू सुल्तान को उसके किए गए अत्याचारों और हत्याओं के बाद भी देश में, खास तौर पर कर्नाटका की पाठ्यपुस्तकों में एक हीरो की तरह पेश किया जाता है। इसी के मद्देनज़र भारतीय जनता पार्टी विधायक मदकेरी अपाचू रंजन ने स्कूल सिलेबस से टीपू सुल्तान के चैप्टर को हटाने की मांग की थी। इसके लिए एम अपाचू रंजन ने बेसिक और माध्यमिक शिक्षा मंत्री सुरेश कुमार को एक पत्र लिखा था। इसके बाद अब मंत्री सुरेश कुमार ने इसी मुद्दे पर टेक्स्ट बुक सोसायटी और इतिहासकारों की एक मीटिंग बुलाई है और उनसे इस मुद्दे पर तीन दिन में रिपोर्ट मांगी है। टेक्स्टबुक सोसायटी के प्रबंध निदेशक को संबोधित करते हुए सुरेश कुमार ने लिखा कि विधायक अपाचू रंजन को आमंत्रित कर इस मुद्दे पर उनसे बात करें और तीन दिन में रिपोर्ट दें। अपने पत्र में उन्होंने लिखा था कि 18वीं सदी में मैसूर पर राज करने वाले शासक टीपू सुल्तान कन्नड़ विरोधी था। उन्होंने लिखा, इतिहास की किताबों में टीपू सुल्तान का महिमामंडन किया गया है। हमने किताबों में जो इतिहास पढ़ा है, वह पूरा नहीं है। ये पूरी तरह सत्य भी नहीं है। अब तक टीपू सुल्तान का जो महिमामंडन किया गया है सबसे पहले उसे रोकना होगा। टीपू सुल्तान कभी भी स्वतंत्रता के लिए नहीं लड़ा। इसलिए स्कूल सिलेबस से टीपू सुल्तान के चैप्टर को हटा दिया जाना चाहिए। Who Was Tipu Sultan?? The Truth Which History Books Will Never ...

लेकिन टीपू सुल्तान को पाठ्यक्रम से हटाना कहीं से भी सही फैसला नहीं है। स्कूलों में टीपू सुल्तान के बारे में जरूर पढ़ाया जाना चाहिए और भावी पीढ़ी को यह बताया जाना चाहिए कि टीपू ने किस प्रकार से हिंदुओं पर अत्याचार किया।

स्वतंत्रा प्राप्ति के बाद कतिपय भारतीय इतिहासकारों ने साम्प्रदायिक सद्भाव एवं धर्मनिरपेक्षता स्थापित करने के जोश में हैदर अली तथा उसके पुत्र टीपू सुल्तान को राष्ट्रीय महानायक बनाकर प्रस्तुत किया तथा अंग्रेजों के विरुद्ध टीपू की सफलताओं को भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम की तरह चित्रांकित किया। जबकि हैदर अली तथा टीपू सुल्तान दोनों का जीवन चरित्र देखने से सहज ही ज्ञात हो जाता है कि उनमें धार्मिक कट्टरता एवं क्रूरता कूट-कूट कर भरी हुई थी। जहां हैदर अली ने अपने हिन्दू स्वामियों को समाप्त करके उनके राज्य को हड़प लिया वहीं, टीपू सुल्तान काफिरों अर्थात्‌ हिन्दुओं, पुर्तगालियों, अंग्रेजों एवं भारतीय ईसाइयों के प्रति जीवन भर हिंसक कार्रवाईयां की और कई हजार लोगों की धार्मिक आधार पर हत्या की।

यह भी पढिये : 1857 स्वतंत्रता संग्राम के तथ्य

Tipu Sultan की करूरता – हिन्दुओं का नर सिंहार : Reality Of Tipu Sultan

1565 में तालीकोट युद्ध के बाद विजयनगर राज्य का विघटन हुआ तथा मैसूर का राज्य अस्तित्त्व में आया। वर्ष 1776 में टीपू सुल्तान के पिता हैदर अली सत्ता पर काबिज हो गया लेकिन वह मैसूर के द्वितीय युद्ध जो कि 1780 से 1784 तक लड़ा गया था, उसमें मारा गया, जिसके बाद टीपू सुल्तान मैसूर का शासक बना।

इसके बाद तो टीपू का कहर बढ़ता गया। हिन्दू, ईसाई या फिर कोई अन्य धर्म, टीपू ने किसी को भी नहीं छोड़ा। टीपू ने नैयर एवं कोडवा नामक हिन्दू समुदायों पर भी भयानक अत्याचार किए। उन्हें भी इस्लाम स्वीकार करने पर विवश किया गया तथा जिन्होंने इस्लाम स्वीकार नहीं किया, उन्हें मार दिया गया। टीपू ने 50 हजार नैयर स्त्री-पुरुष एवं बच्चों को पकड़कर एक किले में बंदकर दिया। इस कारण नैयर समुदाय अंग्रेजों के साथ हो गया। ईस्ट इण्डिया कम्पनी ने नैयरों के सहयोग से ही टीपू सुल्तान को तृतीय एंग्लो-मैसूर युद्ध में पराजित किया था।

वर्ष 1783 में कुरुल के नवाब रुस्तम खान ने कुर्ग के कोडवा हिन्दुओं पर हमला करके लगभग 60 हज़ार कोडवा लोगों को मार डाला तथा कई हजार स्त्री-पुरुषों को पकड़कर बंदी बना लिया। इस आक्रमण से भयभीत होकर 40 हजार कोडवा हिन्दू जंगलों एवं पहाड़ों में भाग गए। बंदी बनाए गए लगभग 40 हजार स्त्री-पुरुष एवं बच्चों को जबरदस्ती मुसलमान बनाया गया। ब्रिटिश प्रशासक मार्क विल्क्स ने पीड़ित कोडवा लोगों की संख्या 70 हजार दी है। अंग्रेज इतिहासकार लेविस राइस तथा मीर किरमानी ने लिखा है कि कुर्ग अभियान में बंदी पीड़ित स्त्री, पुरुष एवं बच्चों की संख्या 80 हजार थी। टीपू ने रुस्तम को लिखे एक पत्र में भी मुसलमान बनाकर सम्मानित किए गए कोडवा हिन्दुओं की संख्या 80 हजार दी है। Reality Of Tipu Sultan

ब्राह्मणों को गौ मांस खिला कर मुस्लिम बनाना Next Page

आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

Quick Payment Link

यह भी पड़िए

प्राचीन रोम में सनातन धर्म को पूजा जाता था ? आइये जानते है क्या समानता है

vedic rome or sanatan –   विद्वान लोग सनातन धर्म को भारत की विभिन्न संस्कृतियों एवं …

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved