Tuesday , 4 August 2020
Home - इतिहास - आज भी संरक्षित हैं रामानुजाचार्य का मृत शरीर
ramanuja original body preserved
ramanuja original body preserved

आज भी संरक्षित हैं रामानुजाचार्य का मृत शरीर

रामानुजाचार्य मृत शरीर श्रीरंगम मंदिर में संरक्षित किया गया है

कौन है रामानुजाचार्य ramanuja original body preserved

वर्ष 1017 ई में मद्रास के पश्चिम में पच्चीस मील की दूरी पर पेरम्बुदुर गाँव में रामानुज का जन्म हुआ था।

उनके पिता केशव सोमयाजी थे और उनकी माता कांतिमाथी बहुत ही दयालु और गुणवान महिला थीं। रामानुज का तमिल नाम इलैया पेरुमल था।  जीवन की शुरुआत में, रामानुज ने अपने पिता को खो दिया।

वह कांचीपुरम  में वेदों शिक्षा लेने के लिए यदाव्प्रकाश आचार्य जी के पास आये थे जो अद्वैत दार्शनिक के प्रथम आचार्य थे |

मृत शरीर श्री रंगनाथस्वामी मंदिर में सरंक्षित

वैष्णव दार्शनिक गुरु रामानुजाचार्य जी का शरीर 1137 CE से श्री रंगनाथस्वामी मंदिर, श्रीरंगम, तिरुचिनारपल्ली के अंदर संरक्षित है। श्री रामाजुनाचार्य वैष्णववाद परंपरा के प्रतिपादक थे। ramanuja original body preserved

Ramanuja Mummy Srirangam

आज भी सरंक्षित किया जाता है |

Post : Biography Of Adi Guru Shankrachrya In Hindi

हर साल इनके शरीर पे चंदन और केसर का लेप शरीर पर लगाया जाता है और कोई अन्य रसायन नहीं लगाया जाता है।

इस परंपरा को 878 सालों से अधिक वर्षों से अभ्यास किया जा रहा है , साल में दो बार, केसर के साथ मिश्रित कपूर का एक कोट शरीर पे लगाया जाता है , जो संरक्षित शरीर पर गेरू / नारंगी रंग  भी लगाया जाता है ramanuja original body preserved

उनके शरीर को एक मूर्ति  में संरक्षित करके रखा गया है और आज भी भक्तों के लिए दर्शन के लिए खुला है।

ध्यान योग्य बात यह है कि नाख़ून आज भी बढ़ रहे हैं और  अगर उनकी नाख़ून को देखें तोह लगता है  कि यह वास्तव में एक मानव शरीर है।

मिस्र कि मम्मी को कई परतों के बीच में रखा गया जाता रहा है और हमेश लेटने कि स्तिथि में होती है लेकिन रामानुजाचार्य मूल शरीर को सामान्य बैठने की स्थिति में रखा गया है | ramanuja original body preserved

यह एकमात्र उदाहरण है जहां एक वास्तविक मानव शरीर इतने सालों तक एक हिंदू मंदिर के अंदर रखा है। उन्होंने श्रीरंगम के भगवान रंगनाथ मंदिर में अपने आचार्य थिरुवदी (अपने आचार्य के चरण कमल) को प्राप्त किया और तब से, रामानुजाचार्य का मूल शरीर ममीकृत किया गया और उन्हें संरक्षित किया गया। ramanuja original body preserved

एक बार तिरुपति बाला जी के मंदिर से भगवान गोविंदराजा जी कि मूर्ती को शिव प्रथा के लोगो ने सुमुद्र में फेंक दिया था , रामानुज ने तिरुपति में की मूर्ति को फिर से स्थापित किया था |

Source : From Daily hunt

 

आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

 

यह भी पढ़ें

budh-helped-muhammad-bin-qasim

कुछ बौद्धों ने की थी भारत पर हमले के लिए कासिम की सहायता

Muhammad bin Qasim : मुस्लिम हमलावरों द्वारा सिंध पर अनेकों आक्रमण किये गये थे लेकिन …

2 विचार

  1. Aditya Kuthiala

    Its a very good site as our history is attached here

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved