king-ranbal-defeated-arabs
king-ranbal-defeated-arabs

इस हिन्दू राजा को नजराना दे छुड़वाया था अरबों ने अपना सेनापति

king ranbal defeated Arabs  : सांतवी सदी में इस्लाम का उदय हुआ और अरब लोग ईरान को

जीत कर अफगानिस्तान यानि हिन्द की सीमा की तरफ आ गये | अफगानिस्तान से ईरान तक इस्लाम का

झंडा फहराने में केवल 10 वर्ष लगे थे | लेकिन गांधार ने इन आक्रमणकारीयों को 300 साल तक रोके रखा |

650 में अरबों का इस स्थान पर आक्रमण शुरू हुआ था |उस समय इराक में अब्दुला इब्न आमिर खलीफा

का राज हुआ करता था | उसने अर रवि इब्न झियाद को हिन्द पर आक्रमण को भेजा था |

राजा रणबल का आक्रमणों का सामना king ranbal defeated arabs 

काबुल के दक्षिण पश्चिम में सिस्तान प्रान्त था | जरंग इसकी राजधानी थी | राजा रणबल सिस्तान

का ही राजा था  उस मस्य जियाद की सेना ने जरंग पर आक्रमण किया और उन्होंने जरंग पर आपना

अधिकार कर लिया | रणबल को अपनी सेना के साथ पहाड़ों पर आश्रय लिया और कुछ समय बाद

जरंग को फिर से जीत लिया | तीन साल के बाद अब्दुर्हमान ने फिर से सिस्तान पर आक्रमण कर दिया

और जरंग पर कब्जा कर लिया गया |जरंग के बाद वह किश की तरफ बढ़ा | रस्ते में हेलमंद नदी की घाटी

में जुर नामक पर्वत था | उसी पर्वत पर मन्दिर था और इस मन्दिर में देवता की सोने की मूर्ति थी |

अब्दुर्हमान ने उस मन्दिर को तोड़ा और लूटपाट करके बस्ती को आग लगा डाली |

king ranbal defeated arabs 

Read this : क्यों नेहरु ने माउन्टबेटन को दिए थे 64000 रूपये

अरबों को देना पड़ा नज़राना 

सिस्तान पर अरबों का कब्ज़ा स्थाई रूप से नहीं हो रहा था | खलीफा मुआविया ने अब्दुर्हमान को सिस्तान

में शासक के रूप भेजा | उसने बड़ी सेना के साथ काबुल पर हमला किया और कबूर के दुर्ग को घेर लिया |

काबुल के सैनिकों को दुर्ग छोड़कर कर जाना पड़ा | इसके बाद राजा ने भारतीय राजाओं से अपने देश के लिए

लड़ने का आवाहन किया और स्थान स्थान से भारत के योद्धा राजा के झंडे के निचे एकत्र हो गये |

युद्ध इतना भयंकर था कि अरबों की सेना को काबुल से भागना पड़ा | इस प्रकार बूस्ट का सारा प्रदेश स्वतंत्र

करवा लिया गया | king ranbal defeated arabs 

इसके बाद 683 में अब्दुर्हमान की जगह यजीद को आक्रमण करने के लिए भेजा गया | रणबल की

सेना उसके ऊपर टूट पड़ी | हेलमंद की घाटी में अनेक जगह पर अरबों को हार माननी पड़ी | जुन्झा

नामक स्थान पर यजीद की सेना को घेर लिया गया | यजीद मारा गया और सिस्तान को अरबो से

मुक्त करवा लिया गया | अरबों के दुसरे सेनानी अबू उबैद को रणबल ने कैद कर लिया | उसको छुड़ाने

के लिए अरबों को पांच लाख दिरहम देने पड़े | king ranbal defeated arabs

आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

Quick Payment Link

यह भी पड़िए

News Editor

पत्रकारों को बिका हुआ माना जाए तो सुधीर और रविश कुमार में से कौन समाज के लिए ज्यादा खतरनाक है?

प्रश्नकर्ता ने एक बहुत ही सख्त लहजे में सख्त किस्म का सवाल पूछा है कि, …

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved