Tuesday , 11 August 2020
Home - इतिहास - इस हिन्दू राजा को नजराना दे छुड़वाया था अरबों ने अपना सेनापति
king-ranbal-defeated-arabs
king-ranbal-defeated-arabs

इस हिन्दू राजा को नजराना दे छुड़वाया था अरबों ने अपना सेनापति

king ranbal defeated Arabs  : सांतवी सदी में इस्लाम का उदय हुआ और अरब लोग ईरान को

जीत कर अफगानिस्तान यानि हिन्द की सीमा की तरफ आ गये | अफगानिस्तान से ईरान तक इस्लाम का

झंडा फहराने में केवल 10 वर्ष लगे थे | लेकिन गांधार ने इन आक्रमणकारीयों को 300 साल तक रोके रखा |

650 में अरबों का इस स्थान पर आक्रमण शुरू हुआ था |उस समय इराक में अब्दुला इब्न आमिर खलीफा

का राज हुआ करता था | उसने अर रवि इब्न झियाद को हिन्द पर आक्रमण को भेजा था |

राजा रणबल का आक्रमणों का सामना king ranbal defeated arabs 

काबुल के दक्षिण पश्चिम में सिस्तान प्रान्त था | जरंग इसकी राजधानी थी | राजा रणबल सिस्तान

का ही राजा था  उस मस्य जियाद की सेना ने जरंग पर आक्रमण किया और उन्होंने जरंग पर आपना

अधिकार कर लिया | रणबल को अपनी सेना के साथ पहाड़ों पर आश्रय लिया और कुछ समय बाद

जरंग को फिर से जीत लिया | तीन साल के बाद अब्दुर्हमान ने फिर से सिस्तान पर आक्रमण कर दिया

और जरंग पर कब्जा कर लिया गया |जरंग के बाद वह किश की तरफ बढ़ा | रस्ते में हेलमंद नदी की घाटी

में जुर नामक पर्वत था | उसी पर्वत पर मन्दिर था और इस मन्दिर में देवता की सोने की मूर्ति थी |

अब्दुर्हमान ने उस मन्दिर को तोड़ा और लूटपाट करके बस्ती को आग लगा डाली |

king ranbal defeated arabs 

Read this : क्यों नेहरु ने माउन्टबेटन को दिए थे 64000 रूपये

अरबों को देना पड़ा नज़राना 

सिस्तान पर अरबों का कब्ज़ा स्थाई रूप से नहीं हो रहा था | खलीफा मुआविया ने अब्दुर्हमान को सिस्तान

में शासक के रूप भेजा | उसने बड़ी सेना के साथ काबुल पर हमला किया और कबूर के दुर्ग को घेर लिया |

काबुल के सैनिकों को दुर्ग छोड़कर कर जाना पड़ा | इसके बाद राजा ने भारतीय राजाओं से अपने देश के लिए

लड़ने का आवाहन किया और स्थान स्थान से भारत के योद्धा राजा के झंडे के निचे एकत्र हो गये |

युद्ध इतना भयंकर था कि अरबों की सेना को काबुल से भागना पड़ा | इस प्रकार बूस्ट का सारा प्रदेश स्वतंत्र

करवा लिया गया | king ranbal defeated arabs 

इसके बाद 683 में अब्दुर्हमान की जगह यजीद को आक्रमण करने के लिए भेजा गया | रणबल की

सेना उसके ऊपर टूट पड़ी | हेलमंद की घाटी में अनेक जगह पर अरबों को हार माननी पड़ी | जुन्झा

नामक स्थान पर यजीद की सेना को घेर लिया गया | यजीद मारा गया और सिस्तान को अरबो से

मुक्त करवा लिया गया | अरबों के दुसरे सेनानी अबू उबैद को रणबल ने कैद कर लिया | उसको छुड़ाने

के लिए अरबों को पांच लाख दिरहम देने पड़े | king ranbal defeated arabs

 

आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

 

यह भी पढ़ें

rss-saved-amritsar-from-muslim-league

कैसे हिन्दुओं ने अमृतसर को पाकिस्तान में सम्मलित होने से बचाया

Rss saved Amritsar from Pakistan : 1941 की जनगणना अनुसार अमृतसर की जनसंख्या 376824 थी। मुस्लिम …

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved