Kashi, the city of Shiva – भगवान शिव के त्रिशूल पर विराजमान है काशी नगरी . . .

Kashi, the city of Shiva – भोले बाबा की नगरी काशी मोक्षदायनी है। यहां बाबा के दर्शन करने भर से जीवन के कई कष्ट दूर हो जाते हैं और मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। काशी तीर्थस्थल है और इस प्राचीन नगरी में काशी विश्वनाथ का दर्शन करना किसी पुण्य काम से कम नहीं। बाबा विश्वनाथ का दर्शन करने के लिए देश नहीं विदेश से लोग आते हैं।

काशी का इतिहास(भाग 1) : क्यों भगवान शिव ने छोड़ी थी काशी

गंगा किनारे बसी काशी को भगवान शिव के त्रिशूल पर टिका हुआ माना गया है। कहते हैं काशी में आने पर बाबा का दर्शन जरूर करना चाहिए और जिसे काशी में बसने का सपना हो वह बाबा के दर्शन के बाद काल भैरव का दशर्न जरूर करें। काशी के कोतवाल हैं काल भैरव. . . Kashi, the city of Shiva

Kashi, the city of Shiva

     मुख्य बातें

  • काशी विश्वनाथ मंदिर स्थित शिवलिंग बारह ज्योर्तिलिंगों में से एक है
  • सावन ही नहीं हर दिन यहां भोले बाबा के दर्शन को रेला लगता है
  • भोले भंडारी के त्रिशूल पर टिकी है काशी

श्री काशी विश्वनाथ की विध्वंस एवं निर्माण का इतिहास!  

 

इतिहास- Kashi, the city of Shiva

इस मंदिर का 3,500 वर्षो का लिखित इतिहास है। इस मंदिर का निर्माण कब किया गया था इसकी
जानकारी तो नहीं है लेकिन इसके इतिहास से पता चलता है कि इस पर कई बार हमले किए गए
लेकिन उतनी ही बार इसका निर्माण भी किया गया। बार-बार के हमलों और पुन: निर्मित किये जाने के
बाद मंदिर के वर्तमान स्वरूप का निर्माण 1780 में इंदौर की महारानी अहिल्या बाई होल्कर ने
करवाया था। Kashi, the city of Shiva

पौराणिक कथा-

काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिग के संबंध में भी कई पौराणिक कथाएं प्रचलित हैं। एक कथा के अनुसार जब भगवान शंकर पार्वती जी से विवाह करने के बाद कैलाश पर्वत रहने लगे तब पार्वती जी इस बात से नाराज रहने लगीं। उन्होंने अपने मन की इच्छा भगवान शिव के सम्मुख रख दी।
अपनी प्रिया की यह बात सुनकर भगवान शिव कैलाश पर्वत को छोड़ कर देवी पार्वती के साथ काशी नगरी में आकर रहने लगे। इस तरह से काशी नगरी में आने के बाद भगवान शिव यहां ज्योतिर्लिग के  रूप में स्थापित हो गए। तभी से काशी नगरी में विश्वनाथ ज्योतिर्लिग ही भगवान शिव का निवास स्थान बन गया।

माना यह भी जाता है कि काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिग किसी मनुष्य की पूजा, तपस्या से प्रकट नहीं हुआ, बल्कि यहां निराकार परमेश्वर ही शिव बनकर विश्वनाथ के रूप में साक्षात प्रकट हुए।

Kashi, the city of Shiva

Gyanvyapi Masjid News : ज्ञानवापी मस्जिद में मिले पांच सौ साल पुराने मंदिर के अवशेष

आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

Quick Payment Link

यह भी पड़िए

Sanskrit vs Tamil

कौनसी भाषा सबसे प्राचीन संस्कृत या तमिल ? Sanskrit vs Tamil ?

Sanskrit vs Tamil : ये एक ऐसा प्रश्न है जो आज से 100 वर्ष पूर्व …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved