Indian who wave india flag in America riots

अमेरिकी संसद में हुए हिंसा के दौरान “भारतीय झंडा” लेकर पहुंचने वाला व्यक्ति कौन है?

जैसे ही यह तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई, वैसे ही कांग्रेस पार्टी के अनेक नेता और वामपंथी पत्रकार उत्साहित हो गए, जिन्होंने तुरंत ही इस घटना को हिंदुत्व, आरएसएस और राष्ट्रवाद से जोड़ते हुए, इस व्यक्ति को मोदी भक्त और देश के लिए अपमान लाने वाला व्यक्ति करार दे दिया। Indian who wave india flag in America riots

प्रोपगंडा  झूठा निकला Indian who wave india flag in America riots

हालाँकि, हमेशा की तरह इनका यह प्रोपगंडा भी झूठा निकला जहां सच्चाई कुछ और थी। 6 तारीख को कैपिटील हिल पर भारतीय झंडा लहराने वाले व्यक्ति “विन्सेंट ज़ेवियर” हैं, जो अमेरिका में 28 वर्षों से भी अधिक वर्षों से रह रहे हैं और मूल रूप से केरल के एक क्रिस्चियन परिवार से आते हैं, और शशि थरूर के खास प्रशंसक हैं।

ये ना तो तथाकथित “मोदी भक्त” हैं और “हिन्दू राष्ट्रवादी” तो बिलकुल नहीं हैं। तो फिर सवाल उठता है की विन्सेंट ज़ेवियर आखिर हैं कौन? Indian who wave india flag in America riots

विन्सेंट ज़ेवियर आखिर हैं कौन? Indian who wave india flag in America riots

इनकी अपने व्यक्तव्य के अनुसार यह 28 वर्षों से भी अधिक समय तक अमेरिका में रह रहे हैं और ट्रम्प के रिपब्लिकन पार्टी के एक सक्रीय सदस्य हैं, इनके अनुसार यह मानते हैं की गत वर्ष हुए अमेरिकी चुनावों में भारी धांधली हुई है, और वह इसी के विरोध में प्रदर्शन करने कैपिटील हिल गए थे|

ये अपने आप को भारतीय-अमेरिकी समुदाय का सदस्य मानते हैं और ये वहां ट्रम्प के समर्थन में उनका प्रतिनिधित्व करने की मंशा से पहुंचे थे| Indian who wave india flag in America riots

Sweden Riots स्वीडन में दंगे क्यूँ भड़के ? क्या सच में दंगो के पीछे कुरान है ?

इन्होने कहा की “कैपिटल हिल” पर किसी दूसरे देश का झंडा लहराने वाले यह अकेले व्यक्ति नहीं थे और वियतनाम, दक्षिण कोरिया और ईरान जैसे अन्य देशों से आने वाले दूसरे समुदाय के लोग भी वहां मौजूद थे।

विन्सेंट का यह साफ़ मानना है, की कैपिटल हिल में जो उन्माद हुआ वह गलत था और वह इसमें बिल्कुल भी शामिल नहीं थे। उल्टा, ये अमेरिकी संसद में हुए हमले के लिए एंटीफा और “ब्लैक लाइवस मैटर्स” जैसे उग्र वामपंथी संगठनों को जिम्मेदार ठहराते हैं, जो इनके अनुसार ट्रम्प समर्थकों के भेष में अन्दर घुसे थे।

मामला चाहे जो हो लेकिन एक बात तो साफ़ है, की कैपिटील हिल पर तिरंगा लहराने वाले यह व्यक्ति हिन्दू राष्ट्रवादी या फिर तथाकथित मोदी भक्त तो बिलकुल नहीं है जिस प्रकार की झूठ भारत के वामपंथी फैला रहे थे।

Source : Opindia

आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

Quick Payment Link

यह भी पड़िए

जीत गई काशी: काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर के लिए ज्ञानव्यापी मस्जिद ने दी जमीन…

काशी विश्वनाथ मंदिर (Kashi Vishwanath Temple) और ज्ञानवापी मस्जिद (Gyanvapi Masjid) विवाद में एक बड़ी …

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved