Tuesday , 24 November 2020
Home - क्यूँ - How Bhagwan Krishna Die ? भगवान कृष्णा की मृत्यु कैसे हुई ?
How Bhagwan Krishna Die ?
How Bhagwan Krishna Die ?

How Bhagwan Krishna Die ? भगवान कृष्णा की मृत्यु कैसे हुई ?

भगवान श्रीकृष्ण ने 125 वर्षों तक धरती पर लीला की। उसके बाद उनके वंश को श्राप मिला कि पूरा यदुवंश समाप्त हो जाएगा। यह श्राप एक ऋषि ने यदुवंशियों को उनकी तपस्या भंग कर तुच्छ मजाक करने पर दिया था।

भगवान श्री कृष्ण ने फिर उद्धव को बताया कि समस्त द्वारिका समाप्त होने वाली है। इसलिए तुम अब द्वारिका से चले जाओ और बद्रीनाथ जाकर भजन करो। इसके साथ ही उन्हें अपनी चरण पादुकाएं भी दी। How Bhagwan Krishna Die ?

सभी देवी देवताओं को इस बात का ज्ञान हो गया कि अब पूर्णपुरुषोत्तम भगवान श्री कृष्ण अपनी लीला समाप्त करने वाले है इसलिए सभी देवी-देवता आकाश में आ प्रभु की लीला देखने लगे।

यह भी पड़िए : आज्ञानी लोगो द्वारा प्रभु श्री राम ऊपर किये सवालों के तर्कसुधा जवाब

श्री कृष्ण एक वृक्ष के नीचे लेटे थे। वहां एक जरा नाम का शिकारी आया। उसने जब दूर से प्रभु के चरणों को देखा तो उसे लगा कि शायद वहां हिरण है। हिरण समझते हुए उसने तीर चलाया और वो तीर प्रभु के चरणों में जा लगा।

जब उसने पास आकर देखा कि तीर किसी हिरण को नहीं अपितु श्रीकृष्ण को लगा है, तो वह रोने लगा और प्रभु से अपने दुष्कार्य के लिए क्षमा मांगने लगा।

तब श्रीकृष्ण ने उसे बताया कि जरा तुम मेरे राम अवतार के समय बाली थे और तब मैंने तुम्हें छुपकर तीर मारा था। त्रेतायुग से तीर मारने का आरोप मुझ पर लगा हुआ था। लेकिन आज तुम्हारे तीर चलाने से मैं मुक्त हो गया। How Bhagwan Krishna Die ?

ये कह कर भगवान ने जरा को गले से लगाया। तभी भगवान के शंख, चक्र, कमलपुष्प और गदा प्रकट हुए और तभी भगवान देहसहित अंर्तध्यान हो गए।

 


आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

यह भी पढ़ें

vishnu-idol-below-qutb-minar

क्यों कुतुबमीनार के निचे दबी है भगवान विष्णु की मूर्ति, इसमें है सृष्टि का रहस्य

Vishnu idol below Qutb Minar : वैदिक विचारधारा के अनुसार शेषषायी भगवान विष्णु ने अपनी लीला …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved