hanuman-idol-made-of-cow-dunk
hanuman-idol-made-of-cow-dunk

गोबर से बनी हनुमान जी की मूर्ति 400 वर्ष बाद भी सुरक्षित

Hanuman idol made of cow dunk : वैसे तो भारत भूमि अनेक आश्चर्य करने वाली चीज़ों से भरी पड़ी है  आज हम एक ऐसे ही आश्चर्यचकित करने वाले मन्दिर के बारे में बताने वालें है जहाँ गोबर से हनुमान जी की प्रतिमा बनी है |  बिल्कुल सत्य है कि गाय के गोबर तथा पानी को मिलाकर आज से करीब 400 वर्ष पहले अचलपुर के बंदेलपूरा स्थित राममठ में श्रद्धालुओं का दुख दर्द दूर कर उनके जीवन में खुशहाली लाने वाली हनुमान जी की प्रतिमा आज भी जस की तस स्थिति में है तथा यह प्रतिमा समर्थ रामदास स्वामी का स्मरण कराती है। 5 फुट ऊंची प्रतिमा पर निरंतर जल और सिंदूर चढ़ाने के बावजूद गोबर से बनी यह प्रतिमा विज्ञान को भी चुनौती देती है। Hanuman idol made of cow dunk

किसी पाषाण  प्रतिमा से भी ज्यादा मजबूत इस प्रतिमा पर 400 वर्षों से भक्त लगातार जल व सिंदूर चढ़ाते आ रहे हैं लेकिन गोबर से बनी इस प्रतिमा को आज तक कोई नुकसान नहीं हुआ है। बताया जाता है कि 16 व वीं शताब्दी में तत्कालीन अचलपुर के बुंदेलपूरा क्षेत्र में हिंदवी स्वराज्य संस्थापक छत्रपति शिवाजी महाराज के आदेश पर उनके परम शिष्य भोलाराम ने गाय के पावन गोबर से यहां पर हनुमान प्रतिमा का निर्माण किया। समर्थ रामदास स्वामी ने यहां आकर इस प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा की थी।

Read This : अफगानिस्तान की गुफा में अमरीकी सैनिकों को मिला प्रचीन यंत्र

समर्थ रामदास स्वामी ने सैकड़ों वर्ष पहले महाराष्ट्र में अनेक राम मठों की स्थापना की थी। इन्हीं में से एक है अचलपुर के बुंदेल पूरा में स्थित यह मठ | इस प्रतिमा की विशेषता है कि गोबर से बनी होने के बावजूद आज तक इस प्रतिमा को ना तो खरोच आई है और ना ही इस में दरारें पड़ी है। आमतौर पर हनुमान प्रतिमा दक्षिण मुखी होती है, लेकिन यहां के हनुमान प्रतिमा पूर्व मुखी है। लोग बहुत दूर दूर से यहाँ पर आते है और यह मूर्ति आज भी लोगों के आकर्षण का केंद्र है |  Hanuman idol made of cow dunk

आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

Quick Payment Link

यह भी पड़िए

Roopkund

कंकालो से भरी रहस्यमयी झील भारत में कहाँ है? क्या है रहस्य ?

Roopkund : हिमालय की गोद में बसे देवभूमि उत्तराखंड में स्थित रूपकुंड झील की खोज …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved