Monday , 3 August 2020
Home - इतिहास - जब पुर्तगाली ईसाईयों ने गौमांस खिलाकर किया था गोवा में हिन्दुओं का धर्मपरिवर्तन
francis-xavier-converted-hindus
francis-xavier-converted-hindus

जब पुर्तगाली ईसाईयों ने गौमांस खिलाकर किया था गोवा में हिन्दुओं का धर्मपरिवर्तन

Francis Xavier converted Hindus : ये इतिहासिक घटना शुरू होती है जब 1542 में

Francis Xavier नाम का ईसाई पुर्तगाल से मालाबार में आता है |इस व्यक्ति का भारत में

आने का सिर्फ एक ही मकसद था , वह यहाँ से हिन्दू धर्म को खत्म करके ईसाई धर्म की

स्थापना करना चाहता था | उसका मानना था कि हिन्दू लोगो के पास बुद्धि नहीं है और वे शैतान की पूजा करने वाले ब्राह्मणों को मानतें है |

Dr.T.R de Souza का कथन  Francis Xavier converted Hindus

Dr.T.R de Souza लिखतें है कि 1540 से ईसाईयों द्वारा हिन्दुओं के सभी मन्दिरों को तोड़ दिया

गया था और मन्दिर के टूटे पत्थरों से ही Church निर्माण किये गये थे |इसके अलावा पुर्तगाली

ईसाईयों ने ब्राह्मणों को अपने इलाकों से निकाल बहार किया था | हिन्दुओं के विवाह संस्कार पर भी प्रतिबन्ध लगा दिया गया था |  Francis Xavier converted Hindus

हिन्दुओ को काम करने नहीं दिया जाता था | रोजगार पर भी ईसाई लोगों को ही महत्वत्ता दी जाने लगी थी | इसके अलावा हिन्दुओं के यह अनिवार्य कर दिया गया था कि उनकों समय समय पर Church में

इक्कठे होकर ईसाई धर्म के बारे में ज्ञान लेना होता था |

हिन्दुओं को जबरन ईसाई बनाया जाता रहा और हर वर्ष 25 जनवरी वाले दिन बहुत

बड़ी संख्या में धर्मपरिवर्तन किये जाते थे | इसके लिए उन्होंने अलग ही निति बनाई हुई थी |

वे अपने नीग्रो दासों के साथ हिन्दुओं की बस्ती में जाते और कुछ हिन्दुओं को पकड़कर उनके

मुहँ पर गाय का मास लगा देते जिससे कि वः हिन्दुओं के अछूत हो जाये और वे

आसानी से उनका धर्मपरिवर्तन कर सकें | Francis Xavier converted Hindus

Read This Also : शाहजहाँ नहीं इस हिन्दू राजा ने बनवाया था लाल किला 

ईसाईयों द्वारा हिन्दू मन्दिरों के धन का उपयोग हिन्दुओं के ही धर्मपरिवर्तन के लिए किया जाने लगा |

लेकिन आज भी यह नहीं रुक पाया है | आज भी हिन्दुओ को विभिन्न तरह के लालच देकर और

अनेको भ्रांतियां फैला कर ईसाई बनाया जा रहा है | Francis Xavier converted Hindus

Source : History of Hindu christian encounters , writer : sita ram goyal

 

आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

 

यह भी पढ़ें

golwalkars-letter-to-subash-chander-bose

अगर गुमनामी बाबा नहीं थे नेता जी तो क्यों गोलवलकर जी लिखते थे उनको पत्र

golwalkar’s letter to subash chander bose : वास्तव में भगवन दी एक ऐसे साधु का …

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved