five-sacrifices-in-hinduism
five-sacrifices-in-hinduism

5 महायज्ञ जो हर हिन्दू को प्रतिदिन करने चाहिए

five sacrifices in Hinduism  : हिन्दू धर्म में एक मान्यता है कि मनुष्य समाज पर निर्भर करता है | वह अपनी जरूरत की हर वस्तु समाज के भिन्न भिन्न अंगो से करता है | अगर मनुष्य दूसरों से ही सभी कुछ प्राप्त करता है तो ये मनुष्य का कर्तव्य है कि जिस जिस से जो कुछ प्राप्त किया है उसको कुछ अन्य रूपों में कुछ न कुछ देना है | इस प्रकार इनको त्याग या कहें महायज्ञों की संज्ञा दी गई है और इन त्यागों या कर्तव्यों को मुख्य रूप से 5 भागों में बांटा गया है जो हर हिन्दू को अपने दैनिक जीवन में जरुर करने चाहिए :

  1. ब्रह्मयज्ञ : इसको वेद यज्ञ भी कहते है | इस  त्याग का महत्व यह है कि मनुष्य का यह कर्तव्य है कि वह ज्ञान ग्रहण करे या कहें की अपनी बुद्धि का अधिक से अधिक विकास करे और उस ज्ञान को आगे बांटें | यह कितना अच्छा त्याग है जिसमें मनुष्य का स्वयं तो भला होता ही है लेकिन साथ में समाज को भी ज्ञान प्राप्त होता है | इसी कारण से भारत के ऋषि मुनियों में कभी किसी चीज़ को Patent करवाने की व्यवस्था नहीं रही है | five sacrifices in Hinduism 
  2. देवयज्ञ : इसमें  देवताओं के लिए त्याग किया  जाता है | क्योंकि देवता कुदरत के संचालक होते है | देवताओं को होम  में घी की  आहुतियाँ दी जाती है ताकि वह इसे ग्रहण करें | अभी आप सोचतें होंगे  कि  देवता आग में धी डालने से कैसे भोजन ग्रहण करते हैं , वास्तव में देव किसी भी वस्तु को महक के रूप में ग्रहण   करते है  five sacrifices in Hinduism 
  3. पितृयज्ञ : यह हमारे पूर्वजों के साथ सम्बन्धित है | इसका महत्व है कि हम अपने पूर्वजों को याद करें और उनका धन्यवाद करें | क्योंकि हम अपने पूर्वजों के कारण ही ज्ञान प्राप्त कर पायें है , उनकी वजह से ही हमे विश्व की सबसे उत्तम सभ्यता मिली है और वैसे भी हमें अपने पूर्वजों से धन , मान सम्मान आदि भी प्राप्त करतें है | पितृ यज्ञ में पानी तथा पिंड दिए जाते है |
  4. भूतयज्ञ : इस त्याग में भोजन को अलग अलग दिशाओं में रखा जाता है ताकि अदृश्य जन्तु तथा दिखने वाले जन्तु या प्राणी भोजन को प्राप्त कर सकें | सबसे बड़िया उदाहरण है , कई बार भोजन करते वक्त हमारे भोजन एक बहुत  ही छोटा हिस्सा बाहर गिर जाता है , तब हमारी माता जी कहतीं है की इसे उठाना मत क्योंकि यह कई और प्राणियों का भोजन है | इसका अर्थ यह है कि कई ऐसे भी जन्तु है जो हमारी तरह सभ्य नहीं है और उनको भोजन उपलब्द करवाना हमारी जिम्मेवारी है | इसमें मुख्य रूप से कुत्तों , कौओ , कीड़े मकोड़ों आदि के लिए भोजन की व्यवस्था की जाती है |  five sacrifices in Hinduism 
  5. मनुष्य यज्ञ : यह बहुत ही महत्वपूर्ण त्याग है | यह हमारा परम कर्तव्य है कि हम जरूरत मंद मनुष्यों की जितनी हो सके उतनी मदद करें | यह मदद किसी भी रूप में हो सकती है , जैसे भूखे को भोजन , कपड़ा आदि | इस प्रकार हमारे हिन्दू धर्म में समाज जो चलाने के लिए मनुष्य के लिए दैनिक त्याग बताएं गये है जो हमें करने ही चाहिए | 

Read This : क्या है देसी गाय और जर्सी गाय में अंतर 

आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

Quick Payment Link

यह भी पड़िए

Lohri 2021 – जानिए, क्यों मनाई जाती है लोहड़ी, क्या है दुल्ला भट्टी की कहानी का महत्व

Lohri 2021 – हर साल देशभर में मकर संक्रांति के एक दिन पहले लोहड़ी का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved