Friday , 18 September 2020
Home - इतिहास - Coward king in Indian history इतिहास का सबसे डरपोक राजा कौन था?
Coward king in Indian history
Coward king in Indian history

Coward king in Indian history इतिहास का सबसे डरपोक राजा कौन था?

आप शायद यकीन नहीं करेंगे ! हुमायूँ इतिहास का सबसे डरपोक राजा हुआ। क्योंकि वो जिंदगीभर अपनी जान बचाकर इधर – उधर भागता रहा। बहादुर मुगल सेना और सरदारों का साथ होने के वावजूद अपनी अकर्मण्यता एवं भय के कारण वह 15 वर्षों तक निर्वासित ज़िन्दगी बिताने को मजबूर रहा। Coward king in indian history 

जिहाद का जवाब देना वाला पहला हिन्दू योद्धा-तक्षक

अब पॉइंट वाइज इसको तार्किक रूप में समझते हैं :

  1. अपने भाइयों के विद्रोह/कलह के भय से उसने अपने राज्य का बंटवारा कर मुगलिया शक्ति को कमजोर किया।
  2. चौसा के युद्ध में शेरशाह के भय से अपनी जान बचाने के लिये। लड़ते हुए सेनानायकों को छोड़कर गंगा पार कर भाग गया।
  3. बिलग्राम/कन्नौज की लड़ाई में भी अपनी कायरता का परिचय देते हुए युद्ध के मैदान से भाग खड़ा हुआ।
  4. यहां तक कि शाही स्त्रियों के रक्षा का भी उसने तनिक ख्याल नहीं किया। उसके लिए जान बचाना ही सबसे बड़ी उपलब्धि थी।
  5. उसके पुनः राजा बनने (1555ई. में) के बावजूद वह अफगानों के भय से सदैव ग्रसित रहा।
  6. अंत में जब 1556 में उसकी मृत्यु हुई तो 13 साल के अकबर को गद्दी पर बैठाया गया,
  7. इस उम्मीद में की कैसा भी हो हुमायूँ से बेहतर विकल्प होगा।
  8. हुमायूँ ने अपने जीवन मे कुछ क्षेत्रों पर अधिकार किया था , पर वहां कर इकट्ठा करने की हिम्मत वह नहीं दिखा पाया।

कुछ महान बुद्धूजीवी इतिहासकारों ने (विशेषकर साम्यवादियों ने) हुमायूँ की महानता के जो कसीदे पढ़ें हैं

वह संभवतः कोरी बकबास है और उसपर व्यापक शोध की आवश्यकता है। Coward king in indian history 

Conspiracy against India – हिंदुस्तान के खिलाफ सबसे बड़ी साजिश ‘ गजवा-ए-हिंद 

अगर जवाब पसन्द आया हो तो कृपया आप अवश्य करें साथ हीं शेयर भी करें।

 


आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

यह भी पढ़ें

Gurukul system of india

Gurukul system of india – गुरुकुल शिक्षा प्रणाली जिसके कारन भारत विश्व गुरु था

Gurukul system of india – आपने अनेक बार भारत की प्राचीन गुरुकुल पद्धति के विषय …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved