Tuesday , 4 August 2020
Home - इतिहास - गोतस्करों ने की इन 20 गौरक्षकों की हत्या-मिडिया था चुप
gau rakshaks killed
gau rakshaks killed

गोतस्करों ने की इन 20 गौरक्षकों की हत्या-मिडिया था चुप

6. जनवरी 2019: तस्करों ने पुलिसकर्मी को रौंदा

महाराष्ट्र के चंद्रपुर में 12 बैल ले जा रहे एक ट्रक ने उसे रोकने की कोशिश करने वाले सिपाही को रौंद कर मार डाला। जानकारी के अनुसार सिपाही प्रकाश मेश्राम ने गाड़ी रोकने के लिए इशारा किया तो तस्करों ने ट्रक की रफ्तार बढ़ाते हुए उसके ऊपर चढ़ा दिया जिससे मेश्राम की मौके पर ही मौत हो गई। ट्रक में सवार दो लोगों — इम्तियाज अहमद फैयाज अहमद और मोहम्मद रजा अब्दुल जब्बार कुरैशी — को गिरफ्तार किया गया जबकि दो अन्य भागने में सफल रहे।

Read this : Meaning os Shivling 

8.सितंबर 2018: गोतस्करों ने पुलिसकर्मी को कुचल कर मार डाला

उत्तर प्रदेश में बरेली के फतेहगंज वेस्ट टोल प्लाजा के पास पशु तस्करों को पकड़ने की कोशिश करते समय पशु तस्करों की गाड़ी से कुचल कर एक सिपाही की मौत हो गई। सिपाही, संजीव गुर्जर, को सूचना मिली थी कि रामपुर रोड से गोस्तकर निकल रहे हैं।
सूचनाओं के अनुसार, पुलिसकर्मी ने जब एक संदिग्ध वाहन देखा तो उसने अपना वाहन आगे निकाल कर पशु तस्करों के वाहन को रुकने का इशारा किया। पशु तस्कर रुके नहीं और वाहन रोकने की बजाए पुलिसकर्मी की तरफ मोड़ दिया। इस वाहन से कुचल कर पुलिसकर्मी की घटनास्थल पर ही मृत्यु हो गई। इसी इलाके में 2015 में एक अन्य पुलिसकर्मी, मनोज मिश्रा, की भी गोस्तस्करों ने के हाथों मौत हुई थी। मिश्रा की हत्या के सिलसिले में जफ़रुद्दीन नामक गोस्तकर को गिरफ्तार किया गया था।

9.अगस्त 2018: पुलिस को सूचना देने पर तीन साधुओं की हत्या

After Three Sadhus Killed In Temple For Opposing Cow Slaughter, Over A Dozen Sadhus Flee Auraiya In Fear

साधु का मृत शरीर

उत्तर प्रदेश के औरैया जिले के कुदरकोट गांव के प्राचीन शिव मंदिर में रहने वाले तीन साधुओं को बीती 15 अगस्त, 2018 को मृत पाया गया। खून से नहाए मृतक साधुओं के हाथ और पैर उनके तख्त से बंधे थे और उनकी गर्दन और शरीर के अन्य हिस्सों पर धारदार हथियार के कई घाव पाए गए थे। इन हत्याओं के संबंध में पुलिस ने नजदीकी कसाई मोहल्ला के पांच लोगों — सलमान, नदीम, शहजाद, नाज़िम और जब्बार – को गिरफ्तार किया। हत्यारों ने पुलिस को बताया कि उन्होंने वे बर्बर हत्याएं साधुओं से बदला लेने के लिए की थीं क्योंकि उन्होंने पुलिस को उनकी अवैध गो-तस्करी और कटान से जुड़ी गतिविधियों के बारे में पुलिस को सूचना दी थी।

10.अगस्त 2018: पुलिसकर्मियों को गोस्तकरों के वाहन ने कुचला

उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले में, पशु चोरों ने कथित रूप से दो सिपाहियों को कुचल कर मार डाला। मिली जानकारी के अनुसार सिपाहियों में से एक, विपिन कुमार, ने मवेशियों से भरे एक वाहन को रुकने का इशारा किया था। जब वे नहीं रुके, तो उसने और सुमेर नामक एक अन्य पुलिसकर्मी ने मोटरसाइकिल पर उनका पीछा किया। पुलिसकर्मियों को पीछा करते देख तस्करों ने पहले तो अपने वाहन की गति कम कर दी और जब पुलिसकर्मियों ने उन्हें ओवरटेक कर लिया तो उन्होंने गति बढ़ाते हुए दोनों सिपाहियों को कुचल कर मार डाला। पुलिस ने ट्रक ड्राइवरों, जीशान और मुमताज को इस सिलसिले में गिरफ्तार किया है। gau rakshaks killed 

11.जनवरी 2018: गोस्तकरों की गोली से घायल युवक की मौत

उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले के उघैती गांव में गोस्तकरों ने गजराज नामक किसान के घर में लगभग आधी रात को घुस कर पशु चुराने का प्रयास किया। चोरों के घुसने पर किसान के पुत्र, जोगेंद्र और सर्वेश, जाग गए और उन्होंने चोरों को रोकने का प्रयास किया लेकिन चोरों ने दोनों भाइयों पर गोली चला दी और वहां से भाग गए। गोली से जख्मी हुए स्नातक कक्षा के छात्र जोगेंद्र ने बाद में दम तोड़ दिया। पिछले एक साल में कम से कम 20 जिंदगियां ‘बीफ माफिया’ का शिकार बन चुकी हैं। कुछ मामलों में अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया गया लेकिन कई अन्य में अभी भी जांच चल रही है।
Source : Swarajya  Timesnownews

 

आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

 

यह भी पढ़ें

rss-saved-amritsar-from-muslim-league

कैसे हिन्दुओं ने अमृतसर को पाकिस्तान में सम्मलित होने से बचाया

Rss saved Amritsar from Pakistan : 1941 की जनगणना अनुसार अमृतसर की जनसंख्या 376824 थी। मुस्लिम …

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved