Thursday , 22 October 2020
Home - इतिहास - गोतस्करों ने की इन 20 गौरक्षकों की हत्या-मिडिया था चुप
gau rakshaks killed
gau rakshaks killed

गोतस्करों ने की इन 20 गौरक्षकों की हत्या-मिडिया था चुप

Gau rakshaks killed : हरियाणा के पलवल में गोरक्षक गोपाल की निर्ममता से हत्या कर दी गई। अखलाक की मौत पर अभियान चलाने वाला सारा मीडिया इस मामले में चुप्पी साधे हुए है, चैनलों में इस विषय पर डिस्कशन नहीं हो रहे हैं, कहीं कोई आवाज नहीं हैं क्योंकि जो मारा गया वह हिंदू है। युवा किसान गोपाल की तीन मासूम बेटियां हैं, कैसे उसका परिवार चलेगा ? कैसे बच्चियों की पढ़ाई होगी ? किसी को फिक्र नहीं है कोई सुध लेने वाला नहीं है । हां यदि घटना में मारा गया युवक मुस्लिम होता तो सेकुलर मीडिया इस मुद्दे को राष्ट्रीय विमर्श का विषय बना चुका होता गोस्तकरों की गोली का शिकार हुआ युवा किसान गोपाल अपनी मासूम बेटियों के साथ | gau rakshaks killed 

पिछले एक साल में गोतस्करी करने वाले अपराधियों के हाथों कम से कम 20 लोगों की मौत हुई है। मारे गए लोगों में किसान, पुलिसकर्मी और साधु शामिल हैं। ये मौतें हरियाणा, उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र में हुई हैं। निर्दोष लोगों की इन मौतों के पीछे ‘बीफ माफिया’ है। इन मौतों पर सोशल मीडिया या मुख्य धारा मीडिया में कहीं कोई चर्चा नहीं है और कथित सेकुलर मीडिया को तो इन खबरों से कोई मतलब ही नहीं है। gau rakshaks killed 

Gau rakshak' shot dead in Haryana's Palwal by alleged cow ...

गोस्तकरों की गोली का शिकार हुआ युवा किसान गोपाल अपनी मासूम बेटियों के साथ

लगभग 10 दिन पहले हरियाणा में एक किसान नरेश को अज्ञात पशु तस्करों ने बेरहमी से मार डाला था। कुल्हाड़ी से काटकर किसान की हत्या के बाद चोर तीन भैंस लेकर फरार हो गए। और अब, पशु चोरों ने हरियाणा में ही गोपाल नाम के एक युवक की हत्या कर दी है। वह चोरी के मवेशी ले जा रहे वाहन को रोकने की कोशिश कर रहा था। नरेश और गोपाल ‘बीफ माफिया’ द्वारा मारे गए लोगों की लंबी और लगातार बढ़ रही सूची में सिर्फ दो नाम हैं। समाचार पत्रों की रिपोर्टों से पता चलता है कि ऐसे हत्यारों के हाथों कम से कम 20 लोगों ने अपनी जान गंवाई है — कुछ की जान अपने मवेशियों की चोरी का विरोध करते हुए गई तो दूसरे लोग पशुओं के अवैध कटान से जुड़ी गतिविधियों के बारे में पुलिस को सूचना देने के लिए या फिर भी गोतस्करों के वाहनों को रोकने के प्रयास में मारे गए। अवैध बीफ उद्योग की वजह से होने वाली इन मौतों की कोई परवाह भी नहीं करता।

1.जुलाई 2019: मवेशी चोरों ने गोपाल को गोली मारी

हरियाणा के पलवल जिले में बीती 29 जुलाई को गोपाल नाम के एक युवा किसान की कथित तौर पर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। रिपोर्ट के अनुसार, गोपाल तस्करी करके ले जाई जा रहे गायों के एक वाहन को रोकने की कोशिश कर रहा था, तब चोरों ने उस पर गोली चला दी। बताया गया है कि यह घटना शाम करीब 7.30 बजे की बताई गई है।  gau rakshaks killed 

2. जुलाई 2019:

मवेशी चोरों के हाथों खेत पर किसान की हत्या हरियाणा के हिसार जिले के बरवाला गांव में बीती 21 जुलाई 2019 को आधी रात के बाद किसी समय किसान नरेश सैनी की उसके खेत में ही काटकर हत्या कर दी गई। सैनी की दो भैंसें और एक बछड़ा गायब थे, जिससे हत्या का शक मवेशी चोरों पर है। बरवाला से कुल 10 किलोमीटर दूर साहू गांव में इंद्रपाल बिश्नोई नामक एक अन्य किसान को एक साल पहले पशु चोरों ने गोली मार दी थी। फरमान, फैजान, एहसान, अफजल और उस्मान नाम के पांच लोगों पर बिश्नोई की हत्या का मुकदमा चल रहा है। पुलिस का कहना है कि आरोपी तड़के 3 बजे के आसपास मवेशियों को काटने ले जा रहे थे, जब बिश्नोई ने उन्हें पकड़ने की कोशिश की थी।

3.जुलाई 2019: मध्य प्रदेश में किसान की खेत पर हत्या

पशु चोरी का विरोध करने पर मध्य प्रदेश के डबरा कस्बे में एक किसान देवीलाल बाथम (53) की रात में उसके खेत पर हत्या कर दी गई। बताया गया कि चोरों ने किसानी के अलावा सुरक्षा गार्ड की नौकरी करने वाले बाथम के मुंह में रेत भर दी और उस पर कुल्हाड़ी से उस पर हमला किया। हत्यारे चोर बाथम की भैंसें लेकर फरार हो गए थे। बाद में, पुलिस ने इस सिलसिले में छह लोगों — मोनू खान, अमजद खान, इश्तियाक, मुनब्बर खान, वाहिद और अन्य को गिरफ्तार किया।

4.जनवरी 2019: पूर्वसैनिक किसान की घर में हत्या

बिहार के बख्तियारपुर जिले के घनश्यामपुर इलाके में मवेशी चोरों ने पूर्व-सैनिक नवल सिंह की गोली मार कर हत्या कर दी। बताया जाता है कि किसान के घर में चोर रात के करीब 2.30 बजे घुसे। इलाके में पहले ही लगभग आधा दर्जन मवेशियों को चोरी की घटनाओं से सतर्क किसान ने अपनी भैंस चुराने आए चोरों का सामना किया और एक चोर को पकड़ने में कामयाब भी हो गए थे। ऐसा होने पर पकड़े गए चोर के साथियों ने किसान नवल सिंह को गोली मार दी। सिंह के भतीजे, चंदन, को भी गंभीर चोटें लगी हैं।

5.जनवरी 2019: गोतस्करों के ट्रक से कुचले गए एक परिवार के सात लोग

तस्करी कर लाई गई गायों से भरा एक तेज रफ्तार ट्रक उत्तर प्रदेश-बिहार सीमा पर चंदौली जिले के मालदह गांव की एक झोंपड़ी में घुस गया, जिससे उसमें रह रहे परिवार के सात सदस्यों; रामकिशन, सुहागिन, गोलू, निशा, मोनी, मोलू और सामा देवी की मौत हो गई। केवल एक सदस्य कल्लू राम इस भीषण दुर्घटना से बच गया, क्योंकि वह अन्यत्र सो रहा था। जानकारी के अनुसार ट्रक बिहार की ओर जा रहा था। दुर्घटना के बाद ट्रक चालक वाहन को वहीं छोड़ कर भागने में सफल रहा। घटनास्थल पर छूटे वाहन में अमानवीय तरीके से गायों को भरा हुआ था। gau rakshaks killed 

next page ….तस्करों ने पुलिसकर्मी को रौंदा

 


आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

यह भी पढ़ें

Coward king in Indian history

Coward king in Indian history इतिहास का सबसे डरपोक राजा कौन था?

आप शायद यकीन नहीं करेंगे ! हुमायूँ इतिहास का सबसे डरपोक राजा हुआ। क्योंकि वो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved