बीजेपी शासित प्रदेशों में भूख से मर रहे गौ वंश

पानीपत / गोंडा. गाय और गीता को लेकर प्रदेश से लेकर देश तक खूब राजनीति (Politics) होती है. कुछ सियासी दलों के लिए तो गाय और गीता से बढ़कर कुछ भी नहीं.
समालखा चुलकाना रोड , पानीपत पर स्थित श्री कृष्ण गौशाला में लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान भूख से 80 गाय दम तोड़ चुकी हैं.
वहीं गोंडा उत्तरप्रदेश कि गौ शाला कि भी येही हाल है , मृत पड़ी गौवंश को कुत्ते नोच नोच क खा रहे है |

गौशाला में हर तरफ गंदगी पसरी है. ना चारा है और ना साफ-सफाई. प्रबंधन का कहना है कि गौशाला में क्षमता से ज्यादा गौवंश है. इन सबकी देखभाल नहीं हो पा रही. सरकार,प्रशासन से मदद के लिए कई बार आग्रह कर चुके हैं लेकिन वहां से कोई जवाब नहीं आया.

सरकार, प्रशासन ना गायों को चारा मुहैया करवा पाए और ना इनके भूख से मरने के बाद इनकी मृत देह को दबाने के लिए जमीन. गाय के नाम पर वोट तो बहुत बटोरे जाते हैं पर बदकिस्मती कि इनकी जान बचाने के लिए कोई आगे नहीं आता. आज भी इस गौशाला में गौवंश तिल-तिल मर रहा है. ना सरकार का दिल पसीज रहा है और ना पशु प्रेमियों का.

पानीपत गौशाला के मैनेजर ने कही ये बात

बता दें कि समालखा चुलकाना रोड स्थित श्री कृष्ण गौशाला साढ़े तीन एकड़ में बनी हुई है. लॉकडाउन के चलते गौशाला में गायों की संख्या अधिक होने के कारण करीब 80 गोवंशों की भूख के कारण मौत हो चुकी है. जानकारी देते हुए गौशाला के मैनजेर कुलदीप ने बताया कि गौशाला में 1850 गौवंशों की संख्या है जबकि क्षमता 1100 गौवंशों की है. गौशाला में पशुओं की संख्या अधिक है इसलिए हर रोज गायों की भूख के कारण मौत हो रही है.

गोंडा गौशाला के मेनेजर का कहना है

कुलदीप ने बताया कि जब वह गाय को चारा डालते हैं तो सभी गाय एक साथ चारा खाती हैं और जो कमजोर गाय है उन्हें गायों की भीड़ अधिक होने के कारण चारा नहीं मिल पाता और वह भूखी रह जाती हैं. इस कारण हर रोज गायों की मौत हो रही है और लॉकडाउन के दौरान करीब आधा दर्यजन गौवंश मर चुकी हैं.

आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

Quick Payment Link

यह भी पड़िए

जीत गई काशी: काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर के लिए ज्ञानव्यापी मस्जिद ने दी जमीन…

काशी विश्वनाथ मंदिर (Kashi Vishwanath Temple) और ज्ञानवापी मस्जिद (Gyanvapi Masjid) विवाद में एक बड़ी …

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved