Monday , 21 September 2020
Home - व्यक्तित्व

व्यक्तित्व

Hitler salute dhyanchand – हिटलर के सम्मान को ठुकराने वाले ‘दादा ध्यानचंद ‘

Hitler salute dhyanchand

Hitler salute dhyanchand – आज हम बात कर रहे है उस महान खिलाडी की जिसने हिटलर के सम्मान को ठुकरा दिया था. हॉकी के जादूगर कहे जाने वाले मेजर ध्यानचंद जितना अपने खेल के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध रहे उतना ही हिटलर की पेशकश ठुकराने की वजह से भी. Hitler salute dhyanchand ध्यानचंद की ख्याति का अंदाज़ा इसी बात …

Read More »

Rasmus Paludan इस शख्स के कारन भड़का स्वीडन में दंगा ?

Rasmus Paludan

कौन हैं Rasmus paludan Rasmus paludan स्वीडन की राष्ट्रवादी पार्टी स्ट्रैम कुर्स के प्रमुख नेता और पेशे से वकील भी  हैं।  2017 में अति राष्ट्रवादी पार्टी स्ट्रैम कुर्स की स्थापना की थी। अपने वीडियोस में हमेशा इस्लामीकरण और देश के ध्रुवीकरण का विरोध करते नजर आये हैं अपनी वीडियोस में कुरान का विरोध अर्ते नजर आये हैं रेसमस इसे अपनी …

Read More »

दक्षिण भारत के यह साधू योगी न होते शायद चीन कभी अस्तित्व में न आता

Bodhidharma

Bodhidharma एक बौद्ध संत (Buddhist Monk ) थे उनका जन्म भारत में हुआ था ।Bodhidarma family के बारे में बात करे तो माना जाता है कि वे राजा सुगंध के तीसरे पुत्र थे जो दक्षिण भारत के कांचीपुरम में राज करते थे । वे बहुत ही कम उम्र में अपना घर छोड़कर monk बन गए थे । इनको ध्यान संप्रदाय …

Read More »

सांसद जो भाषण में मंत्र उचारण करते थे

Swami Rameshwaranand

Swami Rameshwaranand : गुरुकुल घरोंदा के एक आचार्य थे । वे जनसंघ के टिकट पर सांसद बन गए, तो उन्होंने सरकारी आवास नहीं लिया । वे दिल्ली के बाजार सीताराम, दिल्ली-6 के आर्य समाज मंदिर में ही रहते थे । वँहा से #संसद तक पैदल जाया करते थे कार्रवाई में भाग लेने। वे ऐसे पहले #सांसद थे, जो हर सवाल …

Read More »

भारत के एक ऐसे महायोगी संत जो 900 साल जीवित रहे

mysterious-saint-devraha-baba

Mysterious saint Devraha baba : विज्ञान भी उनकी आयु 250 वर्ष से ज्यादा स्वीकार कर चुका है | उनके जीवन में घटने वाली घटना सामान्य मनुष्य के लिये अकल्पनीय, अविश्वसनीय थी भारत के इतिहास में कई साधू संत ऐसे हुए है जो किसी परिचय के मोहताज नही जिनकी कृति से विश्व आज तक गुंजायमान है। ऐसे ही एक संत हुए …

Read More »

वो संत जिनकी तस्वीर लेना असम्भव था-lahiri Mahasaya

lahiri-mahasaya

lahiri Mahasaya : भारत में अनेको संत हुए है जिनके साथ बहुत सारी विचित्र घटनाएँ जुड़ी रहती है | ऐसे ही एक अंत थे लाहिरी महाशय , उनका जन्म 30 सितम्बर 1828 में बंगाल के घुरनी नाम के गाव में हुआ था | उनके पिता का नाम गौर मोहन लाहिरी और माता का नाम मुक्तकाशी  था | बचपन में  उनकी …

Read More »

नेहरु के खिलाफ चुनाव लड़ने वाले संत

prabhu-dutt-brahmachari

Prabhu Dutt Brahmachari : प्रभुदत्त ब्रह्मचारी जी  का जन्म जनपद अलीगढ के ग्राम अहिवासीनगला में सम्वत् 1942 (सन १८८५ ई०) की कार्तिक कृष्ण अष्टमी (अहोई आठें) को परम भागवत पं॰ मेवाराम जी के पुत्र रूप में हुआ। विदुषी माता अयुध्यादेवी से संत सुलभ संस्कार प्राप्त कर आजीवन ब्रह्मचर्य व्रत धारण किया। सम्वत् 2047 (सन 1990 ई०) की चैत्र कृष्ण प्रतिपदा …

Read More »

गौतम बुद्ध की कहानी – Gautam Budh

Gautam Budh

Gautam Budh : गौतम बुद्ध का जन्म 563 ईसा पूर्व वैशाख पूर्णिमा के दिन कपिलवस्तु के निकट लुंबिनी ( आज का नेपाल ) में हुआ था। कपिलवस्तु की महारानी महामाया देवी के अपने देवदह जाते हुए रास्ते में प्रसव पीड़ा हुई जिसमें एक बालक का जन्म हुआ। इनके पिता शुद्धोधन एक शाक्य गणराज्य के राजा थे जन्म के पांचवें दिन …

Read More »

कैसे गंगा को पृथ्वी पर लाये थे भगीरथ

story-of-bhagirath-and-ganga

भगीरथ कौशल नाम के राज्य के राजा दिलीप के पुत्र थे। छोटी आयु में ही उनके पिता दिलीप की मृत्यु हो गई थी। उसके बाद उनकी माता ने उनका पालन पोषण किया। गजराज बचपन से ही पूछ बुद्धिमान गुरुवार और उदार थे अपनी माता से बहुत ही प्रेम करते थे। पूर्णिया बेबी सभी गुण उन्होंने अपनी माता से ही सीखे …

Read More »

Biography Of Adi Guru Shankrachrya In Hindi

Adi Guru Shankrachrya

Adi Guru Shankrachrya : लोकमान्यता है कि केरल प्रदेश के श्रीमद्बषाद्रि पर्वत पर भगवान् शंकर स्वयंभू लिंग रूप में प्रकट हुए और वहीं राजा राजशेखरन ने एक मन्दिर का निर्माण इस ज्योतिर्लिंग पर करा दिया था। इस मन्दिर के निकट ही एक ‘कालडि’ नामक ग्राम है। आचार्य शंकर का जन्म इसी कालडि ग्राम में हुआ था। द्वारिका मठस्थ जन्मपत्री के …

Read More »

Biography Of Sant Basweshwar in Hindi

Biography Of Sant Baheshwar in Hindi

Sant Basweshwar : बसवेश्वर जी के जीवन सम्बन्धी अनेक मत प्रवाह हैं. ‘बसव पुराण’ ‘बसवराज देवर रंगले’  बसवेश्वर जी के जीवन चरित्र के साधन माने जाते हैं. म. बसवेश्वर जी का जन्म इ. स. 1105 ( कुछ लोगों के मतानुसार 1131 ) में अक्षय तृतीया के दिन हुआ. कर्नाटक राज्य के विजापुर जिले का बागेवाड़ी गाँव – उनका जन्म गाँव.  आप …

Read More »

Bhagwan Parshuram की 6 महत्वपूर्ण बातें ।  

Bhagwan Parshuram 

भगवान विष्णु के छठे अवतार के रूप में भगवान परशुराम का नाम लिया जाता है। यह नाम इन्हें भगवान शिव से मिले परशु को धारण करने की वजह से मिला था। इनका जन्म अक्षय तृतीया के दिन हुआ था। यह शस्त्र विद्या के तरीके को आज भी भारत के कई हिस्सों में सिखाया जाता है । इनके शिष्य बहुत बलवान …

Read More »

समर्थ रामदास जिन्होंने मुग़ल सल्तनत हिला के रख दी थी

Samarth Ramdas

Samarth Ramdas Samarth Ramdas : समर्थ रामदास जी का जन्म महाराष्ट्र में गोदावरी के निकट जाम्ब नामक स्थान पर इनका जन्म हुआ । वे बचपन से ही राम और हनुमान के भक्त थे  समर्थगुरु ने नासिक में गोदावरी के तट पर बारह वर्षों तक कठोर साधना की । प्रातः काल से दोपहर तक कमर तक जल में खड़े होकर गायत्री …

Read More »
error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved