Saturday , 19 September 2020
Home - समाचार - मलप्पुरम , केरेला जहाँ हाथी को पटाखे खिलाये गये 70% जनसंख्या मुस्लिम
Brutual Death of elephant in kerela
Brutual Death of elephant in kerela

मलप्पुरम , केरेला जहाँ हाथी को पटाखे खिलाये गये 70% जनसंख्या मुस्लिम

मंगलवार को एक वरिष्ठ वन अधिकारी ने कहा कि केरल के साइलेंट वैली फ़ॉरेस्ट में एक गर्भवती जंगली हाथी मानव क्रूरता का शिकार हो गई। यहां हथिनी के मुंह में पटाखे से भरा अनानास फट गया। उसके सारे मसूड़े बुरी तरह फट गए और वह खा भी नहीं पा रही थी। आखिरकार बेजुबान हाथी की मौत हो गई। Brutual Death of elephant in kerela

प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्यजीव) और मुख्य वन्यजीव वार्डन सुरेंद्र कुमार ने पीटीआई को बताया- यह माना जा रहा है कि पटाखा हथिनी को मारने के इरादे से ही खिलाया गया था। ये घटना की रिपोर्ट अट्टापदी के साइलेंट वैली के फ्रिंज इलाके में हुई। सुरेंद्र कुमार ने कहा कि हाथी की मौत 27 मई को मलप्पुरम जिले में वेल्लियार नदी में हुई। उन्होंने कहा कि पोस्टमार्टम से पता चला है कि वह गर्भवती थी। Brutual Death of elephant in kerela

Latest News : एकता कपूर घुटनों में भाऊ से FIR वापिस करने के लिए सेटिंग करना चाहती है

उन्होंने कहा, “वन अधिकारियों को अपराधी को पकड़ने के लिए निर्देशित दिया गया है। उसे सजा दी जाएगी। हथिनी की दुखद मौत का मामला तब सामने आया जब वन अधिकारी मोहन कृष्णन ने अपने फेसबुक पेज पर एक भावनात्मक पोस्ट लिखा। हाथी को सिर तक नदी में खड़ा देखकर कृष्णन नाम की महिला समझ गई थी कि वह मर गई है। इसके बाद लोगों को मामले की जानकारी हुई।

कुछ बुद्धिजीवी तंज कस रहे हैं जहाँ हिन्दू पूजे जाते हैं वहां यह घटाएं हो रही है बता दें यह घटना मलप्पुरम , केरेला में हुई जहाँ कि 70% जनसंख्या मुस्लिम है , 27% हिन्दू और 2% इसाई आदि हैं |

Source : https://www.census2011.co.in/data/religion/district/275-malappuram.html

 


आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

यह भी पढ़ें

india occupied kailash mountains

कैलाश पर्वत श्रृंखला के बड़े हिस्से को भारत ने अपने अधिकार क्षेत्र में लिया

29-30 अगस्त की रात को भारतीय सेना ने पैंगोंग-त्सो झील के दक्षिण में करीब 60-70 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved