Sunday , 29 November 2020
Home - इतिहास - असम के अदबुध हिन्दू मंदिर जिनके इतिहास जानने योग्य हैं
assam-hindu-temples
assam-hindu-temples

असम के अदबुध हिन्दू मंदिर जिनके इतिहास जानने योग्य हैं

Assam Hindu Temples : असम राज्य को अहोम राज्य भी बोला गया है | अहोम राज्य में कभी भी मुग़लिया शासकों ने राज नही किया| यह राज्य सम्पूर्ण तरीके से हिन्दू राज्य रहा है | कहते हैं  इस राज्य पे माँ कामख्या का आशीर्वाद है | तांत्रिक शक्ति से यह २ ही राज्य बने हैं एक तिबित दूसरा असम | असम में हर साल लाखो तांत्रिक आते हैं क्यूंकि कामख्या मंदिर एक एसा मंदिर है जहाँ दसम काली शक्तियां विराजमान हैं | यहाँ ढेरों मंदिरों है जो अछूते हैं जिसे कभी न तोडा गया और न ही दूषित किया गया | अगर आप सचे सनातनी हैं आपको यह पोस्ट बहुत पसंद आयेगा 

इस राज्य का राजा हमेशा अपने देवी देवतों का सामान करता रहा है |असम कि मार्ग दर्शन ऋषि वशिष्ठ ने कि थी|

आइये जानते हैं अहोम राज्यों के प्रमुख मंदिर : 

१.) कामख्या मंदिर :

गुवाहाटी के कामाख्‍या मंदिर के बारे ...

51 शक्तिपीठों में से एक कामाख्या शक्तिपीठ बहुत ही प्रसिद्ध और चमत्कारी है। कामाख्या देवी का मंदिर अघोरियों और तांत्रिकों का गढ़ माना जाता है। असम की राजधानी दिसपुर से लगभग 7 किलोमीटर दूर स्थित यह शक्तिपीठ नीलांचल पर्वत से 10 किलोमीटर दूर है। कामाख्या मंदिर सभी शक्तिपीठों का महापीठ माना जाता है। इस मंदिर में देवी दुर्गा या मां अम्बे की कोई मूर्ति या चित्र आपको दिखाई नहीं देगा। वल्कि मंदिर में एक कुंड बना है जो की हमेशा फूलों से ढ़का रहता है। इस कुंड से हमेशा ही जल निकलता रहतै है। चमत्कारों से भरे इस मंदिर में देवी की योनि की पूजा की जाती है और योनी भाग के यहां होने से माता यहां रजस्वला भी होती हैं|

kamakhya

1. मनोकामना पूरी करने के लिए यहां कन्या पूजन व भंडारा कराया जाता है। इसके साथ ही यहां पर पशुओं की बलि दी जाती ही हैं। लेकिन यहां मादा जानवरों की बलि नहीं दी जाती है।

2. काली और त्रिपुर सुंदरी देवी के बाद कामाख्या माता तांत्रिकों की सबसे महत्वपूर्ण देवी है। कामाख्या देवी की पूजा भगवान शिव के नववधू के रूप में की जाती है, जो कि मुक्ति को स्वीकार करती है और सभी इच्छाएं पूर्ण करती है।

3.मंदिर परिसर में जो भी भक्त अपनी मुराद लेकर आता है उसकी हर मुराद पूरी होती है। इस मंदिर के साथ लगे एक मंदिर में आपको मां का मूर्ति विराजित मिलेगी। जिसे कामादेव मंदिर कहा जाता है।

4. माना जाता है कि यहां के तांत्रिक बुरी शक्तियों को दूर करने में भी समर्थ होते हैं। हालांकि वह अपनी शक्तियों का इस्तेमाल काफी सोच-विचार कर करते हैं। कामाख्या के तांत्रिक और साधू चमत्कार करने में सक्षम होते हैं। कई लोग विवाह, बच्चे, धन और दूसरी इच्छाओं की पूर्ति के लिए कामाख्या की तीर्थयात्रा पर जाते हैं।

5. कामाख्या मंदिर तीन हिस्सों में बना हुआ है। पहला हिस्सा सबसे बड़ा है इसमें हर व्यक्ति को नहीं जाने दिया जाता, वहीं दूसरे हिस्से में माता के दर्शन होते हैं जहां एक पत्थर से हर वक्त पानी निकलता रहता है। माना जाता है कि महीनें के तीन दिन माता को रजस्वला होता है। इन तीन दिनो तक मंदिर के पट बंद रहते है। तीन दिन बाद दुबारा बड़े ही धूमधाम से मंदिर के पट खोले जाते है।

यह भी पड़िए : असम से मुगलों को खदेड़ने वाला योद्धा Lachit Borphukan

6. इस जगह को तंत्र साधना के लिए सबसे महत्वपूर्ण जगह मानी जाती है। यहां पर साधु और अघोरियों का तांता लगा रहता है। यहां पर अधिक मात्रा में काला जादू भी किया जाता ह। अगर कोई व्यक्ति काला जादू से ग्रसित है तो वह यहां आकर इस समस्या से निजात पा सकता है।

और मंदिरों के लिए अगला पेज  उमानन्द मंदिर , नवग्रह मंदिर शुक्रेश्वर मंदिर ….

 


आशा है , आप के लिए हमारे लेख ज्ञानवर्धक होंगे , हमारी कलम की ताकत को बल देने के लिए ! कृपया सहयोग करें

यह भी पढ़ें

Fighter Naga sadhu

Fighter Naga sadhu -भारतीय इतिहास का इकलौता युद्ध जो लड़ा है नागा साधुओं ने!

Fighter Naga sadhu  –  आपको अगर ऐसा लगता है कि हमारे संत समाज ने भारत …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Copyright © 2020 Saffron Tigers All Rights Reserved